Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Dec 2022 · 1 min read

नया साल मुबारक

आओ करें हम
मिलकर दुआ!
सबको मुबारक
हो साल नया!!
खुशहाल और
आबाद रहे वह!
हरदम जो भी
रहे अब जहां!!
#HappyNewYear2023
#prayers #shayri #poem
#कविता #शायरी #WISH
#HealTheWorld #love
#Peace #Brotherhood

Language: Hindi
1 Like · 246 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हरी भरी तुम सब्ज़ी खाओ|
हरी भरी तुम सब्ज़ी खाओ|
Vedha Singh
असली खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है।
असली खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है।
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
तु शिव,तु हे त्रिकालदर्शी
तु शिव,तु हे त्रिकालदर्शी
Swami Ganganiya
हमनें ख़ामोश
हमनें ख़ामोश
Dr fauzia Naseem shad
Interest
Interest
Bidyadhar Mantry
*क्या बात है आपकी मेरे दोस्तों*
*क्या बात है आपकी मेरे दोस्तों*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
संघर्ष........एक जूनून
संघर्ष........एक जूनून
Neeraj Agarwal
🙅आज🙅
🙅आज🙅
*प्रणय प्रभात*
कब रात बीत जाती है
कब रात बीत जाती है
Madhuyanka Raj
"Let us harness the power of unity, innovation, and compassi
Rahul Singh
हमने माना
हमने माना
SHAMA PARVEEN
हमारी मंजिल
हमारी मंजिल
Diwakar Mahto
Finding alternative  is not as difficult as becoming alterna
Finding alternative is not as difficult as becoming alterna
Sakshi Tripathi
भाषा और बोली में वहीं अंतर है जितना कि समन्दर और तालाब में ह
भाषा और बोली में वहीं अंतर है जितना कि समन्दर और तालाब में ह
Rj Anand Prajapati
ऐ मां वो गुज़रा जमाना याद आता है।
ऐ मां वो गुज़रा जमाना याद आता है।
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
Nothing grand to wish for, but I pray that I am not yet pass
Nothing grand to wish for, but I pray that I am not yet pass
पूर्वार्थ
*माँ सरस्वती (चौपाई)*
*माँ सरस्वती (चौपाई)*
Rituraj shivem verma
एक कदम हम बढ़ाते हैं ....🏃🏿
एक कदम हम बढ़ाते हैं ....🏃🏿
Ajit Kumar "Karn"
ताउम्र रास्ते पे तो चलते रहे हम
ताउम्र रास्ते पे तो चलते रहे हम
Befikr Lafz
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Phool gufran
तो शीला प्यार का मिल जाता
तो शीला प्यार का मिल जाता
Basant Bhagawan Roy
कबूतर इस जमाने में कहां अब पाले जाते हैं
कबूतर इस जमाने में कहां अब पाले जाते हैं
अरशद रसूल बदायूंनी
दुमका संस्मरण 2 ( सिनेमा हॉल )
दुमका संस्मरण 2 ( सिनेमा हॉल )
DrLakshman Jha Parimal
कुछ लोग यूँ ही बदनाम नहीं होते...
कुछ लोग यूँ ही बदनाम नहीं होते...
मनोज कर्ण
"दर्द दर्द ना रहा"
Dr. Kishan tandon kranti
2880.*पूर्णिका*
2880.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*कोई जीता कोई हारा, क्रम यह चलता ही रहता है (राधेश्यामी छंद)
*कोई जीता कोई हारा, क्रम यह चलता ही रहता है (राधेश्यामी छंद)
Ravi Prakash
*लम्हे* ( 24 of 25)
*लम्हे* ( 24 of 25)
Kshma Urmila
मेरे हमसफ़र
मेरे हमसफ़र
Sonam Puneet Dubey
*कविताओं से यह मत पूछो*
*कविताओं से यह मत पूछो*
Dr. Priya Gupta
Loading...