Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 22, 2022 · 1 min read

नया पड़ाव।

सुनो ना,
हम अपने रिश्ते को जरा और खूबसूरत बनाते है,
आने वाले कल के लिए हम थोड़ा दृढ़ बन जाते है।

पंछियों के जेसे खुदका घोंसला बनाने की चाहत रखते है,
एक वृक्ष के जेसे हर मौसम में काबिल रहनेकी कोशिश करते है।

हर सुख दुख में एक दूसरे के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चलते है,
सबकी जिंदगियों में खुशियां बाटनेक का प्रयास करते है।

जिंदगी के इस सुनहरे मोड़ पर एक दूसरे को जरा करीबसे जानते है,
और आनेवाले खूबसूरत नए पड़ाव के लिए हसीन पल संजोग के रखते है।

4 Likes · 8 Comments · 133 Views
You may also like:
ऐसे इश्क निभाया हमने
Anamika Singh
हमारी नींदें
Dr fauzia Naseem shad
चलना ही पड़ेगा
Mahendra Narayan
मानुष हूं मैं या हूं कोई दरिंदा
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
** तेरा बेमिसाल हुस्न **
DESH RAJ
✍️मेरा हमशक्ल है ✍️
'अशांत' शेखर
मेरा सुकूं चैन ले गए।
Taj Mohammad
“ARBITRARY ACTING ON THE WORLD THEATRE “
DrLakshman Jha Parimal
प्रेम की परिभाषा
Nitu Sah
आंखों में जब
Dr fauzia Naseem shad
कर्म-पथ से ना डिगे वह आर्य है।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
प्रेम दो दिल की धड़कन है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Ye Sochte Huye Chalna Pad Raha Hai Dagar Main
Muhammad Asif Ali
गुरू गोविंद
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
पथ पर बैठ गए क्यों राही
Anamika Singh
लोकसभा की दर्शक-दीर्घा में एक दिन: 8 जुलाई 1977
Ravi Prakash
मंदिर
जगदीश लववंशी
कभी हम भी।
Taj Mohammad
*कृष्ण जैसा मित्र होना चाहिए (मुक्तक)*
Ravi Prakash
यादों के झरोखों से।
Taj Mohammad
तुझे देखूं सुबह शाम।
Taj Mohammad
बनकर जनाजा।
Taj Mohammad
निस्वार्थ पापा
Shubham Shankhydhar
हवलदार का करिया रंग (हास्य कविता)
दुष्यन्त 'बाबा'
खूबसूरत तस्वीर
DESH RAJ
बेजुबान
Dhirendra Panchal
सुन लो बच्चों
लक्ष्मी सिंह
नन्हीं बाल-कविताएँ
Kanchan Khanna
✍️✍️एहसास✍️✍️
'अशांत' शेखर
चिड़िया का घोंसला
DESH RAJ
Loading...