Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jul 2022 · 1 min read

नया पड़ाव।

सुनो ना,
हम अपने रिश्ते को जरा और खूबसूरत बनाते है,
आने वाले कल के लिए हम थोड़ा दृढ़ बन जाते है।

पंछियों के जेसे खुदका घोंसला बनाने की चाहत रखते है,
एक वृक्ष के जेसे हर मौसम में काबिल रहनेकी कोशिश करते है।

हर सुख दुख में एक दूसरे के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चलते है,
सबकी जिंदगियों में खुशियां बाटनेक का प्रयास करते है।

जिंदगी के इस सुनहरे मोड़ पर एक दूसरे को जरा करीबसे जानते है,
और आनेवाले खूबसूरत नए पड़ाव के लिए हसीन पल संजोग के रखते है।

Language: Hindi
7 Likes · 9 Comments · 324 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Kanchan sarda Malu
View all
You may also like:
डर को बनाया है हथियार।
डर को बनाया है हथियार।
Taj Mohammad
"होरी"
Dr. Kishan tandon kranti
बस मुझे महसूस करे
बस मुझे महसूस करे
Pratibha Pandey
*तिक तिक तिक तिक घोड़ा आया (बाल कविता)*
*तिक तिक तिक तिक घोड़ा आया (बाल कविता)*
Ravi Prakash
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता -९०
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता -९०
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
जो समय सम्मुख हमारे आज है।
जो समय सम्मुख हमारे आज है।
surenderpal vaidya
मुस्कान
मुस्कान
Saraswati Bajpai
वर्णिक छंद में तेवरी
वर्णिक छंद में तेवरी
कवि रमेशराज
शिद्तों  में  जो बे'शुमार रहा ।
शिद्तों में जो बे'शुमार रहा ।
Dr fauzia Naseem shad
ग्लोबल वार्मिंग :चिंता का विषय
ग्लोबल वार्मिंग :चिंता का विषय
कवि अनिल कुमार पँचोली
आने वाले साल से, कहे पुराना साल।
आने वाले साल से, कहे पुराना साल।
डॉ.सीमा अग्रवाल
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
सृष्टि रचेता
सृष्टि रचेता
RAKESH RAKESH
बाँस और घास में बहुत अंतर होता है जबकि प्रकृति दोनों को एक स
बाँस और घास में बहुत अंतर होता है जबकि प्रकृति दोनों को एक स
Dr. Man Mohan Krishna
पूर्बज्ज् का रतिजोगा
पूर्बज्ज् का रतिजोगा
Anil chobisa
जिंदगी में मस्त रहना होगा
जिंदगी में मस्त रहना होगा
Neeraj Agarwal
পৃথিবী
পৃথিবী
Otteri Selvakumar
■ लीजिए संकल्प...
■ लीजिए संकल्प...
*Author प्रणय प्रभात*
तन को कष्ट न दीजिए, दाम्पत्य अनमोल।
तन को कष्ट न दीजिए, दाम्पत्य अनमोल।
जगदीश शर्मा सहज
*मय या मयखाना*
*मय या मयखाना*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ये छुटपुट कोहरा छिपा नही सकता आफ़ताब को
ये छुटपुट कोहरा छिपा नही सकता आफ़ताब को
'अशांत' शेखर
💐प्रेम कौतुक-470💐
💐प्रेम कौतुक-470💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मार मुदई के रे... 2
मार मुदई के रे... 2
जय लगन कुमार हैप्पी
गिरगिट
गिरगिट
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अभिमान
अभिमान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
तुमसे ज्यादा और किसको, यहाँ प्यार हम करेंगे
तुमसे ज्यादा और किसको, यहाँ प्यार हम करेंगे
gurudeenverma198
जीवनी स्थूल है/सूखा फूल है
जीवनी स्थूल है/सूखा फूल है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
एक अकेला
एक अकेला
Punam Pande
बुढ़ापे में अभी भी मजे लेता हूं (हास्य व्यंग)
बुढ़ापे में अभी भी मजे लेता हूं (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
अब तो उठ जाओ, जगाने वाले आए हैं।
अब तो उठ जाओ, जगाने वाले आए हैं।
नेताम आर सी
Loading...