Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Aug 2016 · 1 min read

नयन में उतर जाओ

*मुक्तक*
नयन के द्वार से आकर मे’रे उर में उतर जाओ।
महक बन प्रेम के गुल की हृदय में तुम बिखर जाओ।
सकल – जग- प्राणियों में बिंब तेरा ही दिखे प्रतिपल।
नजर में सत्य की कोई कन्हैया दीप्ति कर जाओ।
अंकित शर्मा ‘इषुप्रिय’
रामपुर कलाँ, सबलगढ(म.प्र.)

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
146 Views
You may also like:
सर्वश्रेष्ठ
Seema 'Tu hai na'
तुझसे रूठ कर
Sadanand Kumar
फिर भी वो मासूम है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️"एक वोट एक मूल्य"✍️
'अशांत' शेखर
बाल कविता : पटाखे
Ravi Prakash
553 बां प़काश पर्व गुरु नानक देव जी का जन्म...
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दोहे एकादश ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
बाल कहानी- बाल विवाह
SHAMA PARVEEN
नौकरी-चाकरी पर दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
प्रकृति
लक्ष्मी सिंह
तंग नजरिए
shabina. Naaz
प्यार को हद मे रहने दो
Anamika Singh
दिल में उतरते हैं।
Taj Mohammad
फौजी ज़िन्दगी
Lohit Tamta
आई लव यू / आई मिस यू
N.ksahu0007@writer
मोमबत्ती जब है जलती
Buddha Prakash
अभी बचपन है इनका
gurudeenverma198
खींचो यश की लम्बी रेख
Pt. Brajesh Kumar Nayak
हिन्दू धर्म और अवतारवाद
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
आज भी हमें प्यार पुराना याद आता है./लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
मेरी चुनरिया
DESH RAJ
जावेद कक्षा छः का छात्र कला के बल पर कई...
Shankar J aanjna
मेरी भोली “माँ” (सहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता)
पाण्डेय चिदानन्द
आज कल मैं
Dr fauzia Naseem shad
💢✳️कभी हमारे नाम का ज़िक्र करना✳️💢
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
रामलीला
VINOD KUMAR CHAUHAN
एक नायाब मौका
Aditya Prakash
“ मिलिटरी ट्रैनिंग सभक लेल “
DrLakshman Jha Parimal
माँ
DR ARUN KUMAR SHASTRI
खुला प्रहार
Shekhar Chandra Mitra
Loading...