Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Aug 2016 · 1 min read

नयन में उतर जाओ

मुक्तक
नयन के द्वार से आकर मे’रे उर में उतर जाओ।
महक बन प्रेम के गुल की हृदय में तुम बिखर जाओ।
सकल – जग- प्राणियों में बिंब तेरा ही दिखे प्रतिपल।
नजर में सत्य की कोई कन्हैया दीप्ति कर जाओ।
अंकित शर्मा ‘इषुप्रिय’
रामपुर कलाँ, सबलगढ(म.प्र.)

Language: Hindi
223 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अंकित शर्मा 'इषुप्रिय'
View all
You may also like:
गीतिका
गीतिका "बचाने कौन आएगा"
लक्ष्मीकान्त शर्मा 'रुद्र'
राम विवाह कि हल्दी
राम विवाह कि हल्दी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मेरी तो धड़कनें भी
मेरी तो धड़कनें भी
हिमांशु Kulshrestha
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
आस्था और भक्ति की तुलना बेकार है ।
आस्था और भक्ति की तुलना बेकार है ।
Seema Verma
शेष न बचा
शेष न बचा
Er. Sanjay Shrivastava
बदी करने वाले भी
बदी करने वाले भी
Satish Srijan
जहाँ बचा हुआ है अपना इतिहास।
जहाँ बचा हुआ है अपना इतिहास।
Buddha Prakash
मेल
मेल
Lalit Singh thakur
CUPID-STRUCK !
CUPID-STRUCK !
Ahtesham Ahmad
राही
राही
RAKESH RAKESH
*भगवान के नाम पर*
*भगवान के नाम पर*
Dushyant Kumar
*Max Towers in Sector 16B, Noida: A Premier Business Hub 9899920149*
*Max Towers in Sector 16B, Noida: A Premier Business Hub 9899920149*
Juhi Sulemani
■ बड़ी सीख
■ बड़ी सीख
*Author प्रणय प्रभात*
गूँज उठा सर्व ब्रह्माण्ड में वंदेमातरम का नारा।
गूँज उठा सर्व ब्रह्माण्ड में वंदेमातरम का नारा।
Neelam Sharma
गुलाम
गुलाम
Punam Pande
‘ विरोधरस ‘---6. || विरोधरस के उद्दीपन विभाव || +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---6. || विरोधरस के उद्दीपन विभाव || +रमेशराज
कवि रमेशराज
✍️ D. K 27 june 2023
✍️ D. K 27 june 2023
The_dk_poetry
*छह माह (बाल कविता)*
*छह माह (बाल कविता)*
Ravi Prakash
रुचि पूर्ण कार्य
रुचि पूर्ण कार्य
लक्ष्मी सिंह
वचन मांग लो, मौन न ओढ़ो
वचन मांग लो, मौन न ओढ़ो
Shiva Awasthi
मर्चा धान को मिला जीआई टैग
मर्चा धान को मिला जीआई टैग
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
सब अपने नसीबों का
सब अपने नसीबों का
Dr fauzia Naseem shad
फूल फूल और फूल
फूल फूल और फूल
SATPAL CHAUHAN
हमारी राष्ट्रभाषा हिन्दी
हमारी राष्ट्रभाषा हिन्दी
Mukesh Kumar Sonkar
सदियों से रस्सी रही,
सदियों से रस्सी रही,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
💐प्रेम कौतुक-331💐
💐प्रेम कौतुक-331💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सबके हाथ में तराजू है ।
सबके हाथ में तराजू है ।
Ashwini sharma
तेरी मधुर यादें
तेरी मधुर यादें
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
6-
6- "अयोध्या का राम मंदिर"
Dayanand
Loading...