Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

नयन में उतर जाओ

*मुक्तक*
नयन के द्वार से आकर मे’रे उर में उतर जाओ।
महक बन प्रेम के गुल की हृदय में तुम बिखर जाओ।
सकल – जग- प्राणियों में बिंब तेरा ही दिखे प्रतिपल।
नजर में सत्य की कोई कन्हैया दीप्ति कर जाओ।
अंकित शर्मा ‘इषुप्रिय’
रामपुर कलाँ, सबलगढ(म.प्र.)

93 Views
You may also like:
मतदान का दौर
Anamika Singh
समय का सदुपयोग
Anamika Singh
** The Highway road **
Buddha Prakash
सारी दुनिया से प्रेम करें, प्रीत के गांव वसाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
💝 जोश जवानी आये हाये 💝
DR ARUN KUMAR SHASTRI
श्रमिक
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
प्रेम
Rashmi Sanjay
पिता आदर्श नायक हमारे
Buddha Prakash
जिंदगी की रेस
DESH RAJ
तन्हा ही खूबसूरत हूं मैं।
शक्ति राव मणि
नर्मदा के घाट पर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
परीक्षा एक उत्सव
Sunil Chaurasia 'Sawan'
मिला है जब से साथ तुम्हारा
Ram Krishan Rastogi
पत्नियों की फरमाइशें (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
नई लीक....
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
सब्जी की टोकरी
Buddha Prakash
चलो जिन्दगी को फिर से।
Taj Mohammad
वो कहते हैं ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
बस एक ही भूख
DESH RAJ
नयी सुबह फिर आएगी...
मनोज कर्ण
पिता
Deepali Kalra
Daughter of Nature.
Taj Mohammad
✍️तर्क✍️
"अशांत" शेखर
चाय की चुस्की
श्री रमण
नदी का किनारा
Ashwani Kumar Jaiswal
✍️थोड़ा थक गया हूँ...✍️
"अशांत" शेखर
बसन्त बहार
N.ksahu0007@writer
संस्मरण:भगवान स्वरूप सक्सेना "मुसाफिर"
Ravi Prakash
घड़ी
Utsav Kumar Aarya
गुलामी के पदचिन्ह
मनोज कर्ण
Loading...