Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Oct 2016 · 1 min read

*नयन नीले, वसन पीले*

नयन नीले, वसन पीले,
चाहता मन और जी ले।

छू हृदय का तार तुमने,
प्राण में भर प्यार तुमने।
और अंतस में समा कर,
मन किया उजियार तुमने।

चाह होती नेह भीगी,
पावसी जलधार पीले।

चंद्र मुख, औ चाँदनी तन,
और निर्मल दूध सा मन।
गंध चम्पई घोलते हैं,
झील जैसे कमल लोचन।

रूप अँटता कब नयन में,
हारते लोचन लजीले।

पी नयन का मेह खारा,
और फिर भर नेह सारा।
एक उजड़े से चमन को,
नेह से तुमने सँवारा।

हो गया मन क्यूँ हरा है,
देख कर ये नयन नीले।

और झीनी गन्ध देकर,
प्यार की सौगन्ध देकर।
स्नेह लिप्ता उर कमल का,
पावसी मकरंद देकर।

कौन सा यह मंत्र फूँका,
हो गए नयना हठीले।

नयन नीले, वसन पीले।
चाहता मन और जी ले।
…आनन्द विश्वास

Language: Hindi
1 Like · 472 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हमारी सम्पूर्ण ज़िंदगी एक संघर्ष होती है, जिसमे क़दम-क़दम पर
हमारी सम्पूर्ण ज़िंदगी एक संघर्ष होती है, जिसमे क़दम-क़दम पर
SPK Sachin Lodhi
रात बसर की मैंने जिस जिस शहर में,
रात बसर की मैंने जिस जिस शहर में,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
कब टूटा है
कब टूटा है
sushil sarna
हम जो भी कार्य करते हैं वो सब बाद में वापस लौट कर आता है ,चा
हम जो भी कार्य करते हैं वो सब बाद में वापस लौट कर आता है ,चा
Shashi kala vyas
बेटियां ?
बेटियां ?
Dr.Pratibha Prakash
*गोरे से काले हुए, रोगों का अहसान (दोहे)*
*गोरे से काले हुए, रोगों का अहसान (दोहे)*
Ravi Prakash
3237.*पूर्णिका*
3237.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
याद रक्खा नहीं भुलाया है
याद रक्खा नहीं भुलाया है
Dr fauzia Naseem shad
*नारी*
*नारी*
Dr. Priya Gupta
शक
शक
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
हालात बदलेंगे या नही ये तो बाद की बात है, उससे पहले कुछ अहम
हालात बदलेंगे या नही ये तो बाद की बात है, उससे पहले कुछ अहम
पूर्वार्थ
एक जमाना था...
एक जमाना था...
Rituraj shivem verma
शब्द
शब्द
ओंकार मिश्र
अब युद्ध भी मेरा, विजय भी मेरी, निर्बलताओं को जयघोष सुनाना था।
अब युद्ध भी मेरा, विजय भी मेरी, निर्बलताओं को जयघोष सुनाना था।
Manisha Manjari
न दिल किसी का दुखाना चाहिए
न दिल किसी का दुखाना चाहिए
नूरफातिमा खातून नूरी
#दोहा
#दोहा
*प्रणय प्रभात*
विश्वास
विश्वास
Paras Nath Jha
पथप्रदर्शक
पथप्रदर्शक
Sanjay ' शून्य'
वक्त यूं बीत रहा
वक्त यूं बीत रहा
$úDhÁ MãÚ₹Yá
देश हमारा भारत प्यारा
देश हमारा भारत प्यारा
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बेटी
बेटी
Dr Archana Gupta
नादान था मेरा बचपना
नादान था मेरा बचपना
राहुल रायकवार जज़्बाती
चल फिर इक बार मिलें हम तुम पहली बार की तरह।
चल फिर इक बार मिलें हम तुम पहली बार की तरह।
Neelam Sharma
चला गया
चला गया
Mahendra Narayan
🐼आपकों देखना🐻‍❄️
🐼आपकों देखना🐻‍❄️
Vivek Mishra
शाख़ ए गुल छेड़ कर तुम, चल दिए हो फिर कहां  ,
शाख़ ए गुल छेड़ कर तुम, चल दिए हो फिर कहां ,
Neelofar Khan
क्या लिखते हो ?
क्या लिखते हो ?
Atul "Krishn"
जगदाधार सत्य
जगदाधार सत्य
महेश चन्द्र त्रिपाठी
मैं तो महज जीवन हूँ
मैं तो महज जीवन हूँ
VINOD CHAUHAN
दादी माँ - कहानी
दादी माँ - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...