Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Nov 2023 · 1 min read

नमस्कार मित्रो !

नमस्कार मित्रो !
कभी जब मन में चिन्ता हो तो नींद न आना स्वाभाविक है । ऐसे में चिन्ता को प्रभु के निर्णय पर छोड़ कर , प्रभु के नाम का स्मरण करने से नींद आ जाती है । ऐसा चमत्कारी है प्रभु का स्मरण ।
जय श्री राधे !
जय श्री कृष्ण !
***

1 Like · 176 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Mahesh Jain 'Jyoti'
View all
You may also like:
दोहे-मुट्ठी
दोहे-मुट्ठी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
तुझे याद करता हूँ क्या तुम भी मुझे याद करती हो
तुझे याद करता हूँ क्या तुम भी मुझे याद करती हो
Rituraj shivem verma
दोहा-
दोहा-
दुष्यन्त बाबा
"अच्छे साहित्यकार"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रतीक्षा
प्रतीक्षा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
* संस्कार *
* संस्कार *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
स्वप्न लोक के वासी भी जगते- सोते हैं।
स्वप्न लोक के वासी भी जगते- सोते हैं।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
🚩एकांत महान
🚩एकांत महान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
Har subha uthti hai ummid ki kiran
Har subha uthti hai ummid ki kiran
कवि दीपक बवेजा
कर्बला की मिट्टी
कर्बला की मिट्टी
Paras Nath Jha
■ कन्फेशन
■ कन्फेशन
*Author प्रणय प्रभात*
दो घूंट
दो घूंट
संजय कुमार संजू
पिता के पदचिह्न (कविता)
पिता के पदचिह्न (कविता)
दुष्यन्त 'बाबा'
बिंते-हव्वा (हव्वा की बेटी)
बिंते-हव्वा (हव्वा की बेटी)
Shekhar Chandra Mitra
सँविधान
सँविधान
Bodhisatva kastooriya
जिंदगी है कि जीने का सुरूर आया ही नहीं
जिंदगी है कि जीने का सुरूर आया ही नहीं
Deepak Baweja
देता है अच्छा सबक़,
देता है अच्छा सबक़,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अब मुझे महफिलों की,जरूरत नहीं रही
अब मुझे महफिलों की,जरूरत नहीं रही
पूर्वार्थ
मित्रता
मित्रता
Shashi kala vyas
ज्योतिर्मय
ज्योतिर्मय
Pratibha Pandey
यह गोकुल की गलियां,
यह गोकुल की गलियां,
कार्तिक नितिन शर्मा
మంత్రాలయము మహా పుణ్య క్షేత్రము
మంత్రాలయము మహా పుణ్య క్షేత్రము
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
Mere hisse me ,
Mere hisse me ,
Sakshi Tripathi
*** कृष्ण रंग ही : प्रेम रंग....!!! ***
*** कृष्ण रंग ही : प्रेम रंग....!!! ***
VEDANTA PATEL
पल भर में बदल जाए
पल भर में बदल जाए
Dr fauzia Naseem shad
घर आना नॅंदलाल हमारे, ले फागुन पिचकारी (गीत)
घर आना नॅंदलाल हमारे, ले फागुन पिचकारी (गीत)
Ravi Prakash
💐प्रेम कौतुक-287💐
💐प्रेम कौतुक-287💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गांव में छुट्टियां
गांव में छुट्टियां
Manu Vashistha
गुजर जाती है उम्र, उम्र रिश्ते बनाने में
गुजर जाती है उम्र, उम्र रिश्ते बनाने में
Ram Krishan Rastogi
Loading...