Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Feb 2023 · 1 min read

नफ़रत की आग

कौन है हिंदू
कौन है मुस्लिम
कौन है सिक्ख
कौन ईसाई है
इस देश में
रहने वाला
हर इंसान
हमारा भाई है…
(१)
जिसने बेटों को
क़त्ल किया
और बेटियों से
दुराचार
न तो देशभक्त
न ही राष्ट्रवादी
वह बेरहम
एक कसाई है…
(२)
ये कम्यूनिस्ट
वे खालिस्तानी
ये नक्सली
वे पाकिस्तानी
तेरा भी घर
न फूंके तो कहना
वही आग जो
तूने लगाई है…
(३)
कहीं ज़हालत
कहीं पाखंड
कहीं कट्टरता
कहीं कर्मकाण्ड
जैसे भी बने
इसे रोकिए
इसमें सबकी
जग हंसाई है…
(४)
उजाड़ी जा रहीं
बस्तियां
लूटी जा रहीं
दुकानें
जिसकी आंखों के
सामने
वह तो पुलिस
नहीं, दंगाई है…
(५)
न तो उन्हें है
कोई शर्म
न ही है
कोई अफ़सोस
अपनी काली
करतूतों पर
यह तो एकदम
बेहयाई है…
#Geetkar
Shekhar Chandra Mitra
#इंकलाबी #फनकार #भंडाफोड़
#गीत #सियासत #जनवादी #बागी
#lyricist #riots #genocide
#Bollywood #lyrics #rebel
#Politics #opposition #poetry

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 228 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तारीफों में इतने मगरूर हो गए थे
तारीफों में इतने मगरूर हो गए थे
कवि दीपक बवेजा
इन तन्हाइयों में तुम्हारी याद आएगी
इन तन्हाइयों में तुम्हारी याद आएगी
Ram Krishan Rastogi
ससुराल गेंदा फूल
ससुराल गेंदा फूल
Seema gupta,Alwar
तब तात तेरा कहलाऊँगा
तब तात तेरा कहलाऊँगा
Akash Yadav
"औरत ही रहने दो"
Dr. Kishan tandon kranti
*अशोक कुमार अग्रवाल : स्वच्छता अभियान जिनका मिशन बन गया*
*अशोक कुमार अग्रवाल : स्वच्छता अभियान जिनका मिशन बन गया*
Ravi Prakash
सत्यम शिवम सुंदरम
सत्यम शिवम सुंदरम
Harminder Kaur
पायल
पायल
Kumud Srivastava
अनसुलझे किस्से
अनसुलझे किस्से
Mahender Singh
तेरे हम है
तेरे हम है
Dinesh Kumar Gangwar
मेरे हिसाब से
मेरे हिसाब से
*प्रणय प्रभात*
वर्तमान समय मे धार्मिक पाखण्ड ने भारतीय समाज को पूरी तरह दोह
वर्तमान समय मे धार्मिक पाखण्ड ने भारतीय समाज को पूरी तरह दोह
शेखर सिंह
बोल
बोल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मेरा एक छोटा सा सपना है ।
मेरा एक छोटा सा सपना है ।
PRATIK JANGID
*अवध  में  प्रभु  राम  पधारें है*
*अवध में प्रभु राम पधारें है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
नम आंखे बचपन खोए
नम आंखे बचपन खोए
Neeraj Mishra " नीर "
गज़ल सी कविता
गज़ल सी कविता
Kanchan Khanna
कहने से हो जाता विकास, हाल यह अब नहीं होता
कहने से हो जाता विकास, हाल यह अब नहीं होता
gurudeenverma198
नज़रें बयां करती हैं,लेकिन इज़हार नहीं करतीं,
नज़रें बयां करती हैं,लेकिन इज़हार नहीं करतीं,
Keshav kishor Kumar
सत्य
सत्य
देवेंद्र प्रताप वर्मा 'विनीत'
अंधकार जितना अधिक होगा प्रकाश का प्रभाव भी उसमें उतना गहरा औ
अंधकार जितना अधिक होगा प्रकाश का प्रभाव भी उसमें उतना गहरा औ
Rj Anand Prajapati
कोई पैग़ाम आएगा (नई ग़ज़ल) Vinit Singh Shayar
कोई पैग़ाम आएगा (नई ग़ज़ल) Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
बदलता चेहरा
बदलता चेहरा
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
3059.*पूर्णिका*
3059.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*जाड़े की भोर*
*जाड़े की भोर*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मन
मन
Dr.Priya Soni Khare
सरकारी
सरकारी
Lalit Singh thakur
नौकरी
नौकरी
Rajendra Kushwaha
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
रातें ज्यादा काली हो तो समझें चटक उजाला होगा।
रातें ज्यादा काली हो तो समझें चटक उजाला होगा।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
Loading...