Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Mar 2023 · 1 min read

नदियां जो सागर में जाती उस पाणी की बात करो।

नदियां जो सागर में जाती उस पाणी की बात करो।
विषदंतो से बड़ी भयानक उस वाणी की बात करो।
सुबह उठे तो हिंदू मुश्लिम जाति धर्म दुर्भाव प्रखर।
लोकतंत्र का संघारक जो उस प्राणी की बात करो।।

सत्येन्द्र पटेल’प्रखर’

499 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
View all
You may also like:
भारतवर्ष स्वराष्ट्र पूर्ण भूमंडल का उजियारा है
भारतवर्ष स्वराष्ट्र पूर्ण भूमंडल का उजियारा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ग़ज़ल
ग़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
"सम्भव"
Dr. Kishan tandon kranti
3386⚘ *पूर्णिका* ⚘
3386⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
बुढ़ाते बालों के पक्ष में / MUSAFIR BAITHA
बुढ़ाते बालों के पक्ष में / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
श्रीराम
श्रीराम
सुरेखा कादियान 'सृजना'
World Hypertension Day
World Hypertension Day
Tushar Jagawat
*दिल में  बसाई तस्वीर है*
*दिल में बसाई तस्वीर है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
कैदी
कैदी
Tarkeshwari 'sudhi'
■ आज का संदेश...
■ आज का संदेश...
*Author प्रणय प्रभात*
Expectations
Expectations
पूर्वार्थ
"पापा की परी"
Yogendra Chaturwedi
रहे_ ना _रहे _हम सलामत रहे वो,
रहे_ ना _रहे _हम सलामत रहे वो,
कृष्णकांत गुर्जर
गर्मी की मार
गर्मी की मार
Dr.Pratibha Prakash
सावन म वैशाख समा गे
सावन म वैशाख समा गे
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
*ये बिल्कुल मेरी मां जैसी है*
*ये बिल्कुल मेरी मां जैसी है*
Shashi kala vyas
मजदूर दिवस पर एक रचना
मजदूर दिवस पर एक रचना
sushil sarna
मुहब्बत मील का पत्थर नहीं जो छूट जायेगा।
मुहब्बत मील का पत्थर नहीं जो छूट जायेगा।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
मुक्ति
मुक्ति
Amrita Shukla
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
अमावस्या में पता चलता है कि पूर्णिमा लोगो राह दिखाती है जबकि
अमावस्या में पता चलता है कि पूर्णिमा लोगो राह दिखाती है जबकि
Rj Anand Prajapati
*हम बच्चे हिंदुस्तान के { बालगीतिका }*
*हम बच्चे हिंदुस्तान के { बालगीतिका }*
Ravi Prakash
देखिए आईपीएल एक वह बिजनेस है
देखिए आईपीएल एक वह बिजनेस है
शेखर सिंह
मन की प्रीत
मन की प्रीत
भरत कुमार सोलंकी
हौसला
हौसला
Monika Verma
उम्र अपना
उम्र अपना
Dr fauzia Naseem shad
युद्ध के स्याह पक्ष
युद्ध के स्याह पक्ष
Aman Kumar Holy
शून्य से अनन्त
शून्य से अनन्त
The_dk_poetry
यहां कोई बेरोजगार नहीं हर कोई अपना पक्ष मजबूत करने में लगा ह
यहां कोई बेरोजगार नहीं हर कोई अपना पक्ष मजबूत करने में लगा ह
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
मुरली कि धुन,
मुरली कि धुन,
Anil chobisa
Loading...