Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Nov 2022 · 1 min read

नजरअंदाज करना तो उनकी फितरत थी—-

नजरअंदाज करना तो उनकी फितरत थी,
रंग-बिरंगे आसमान में उड़ने की चाहत थी।
हम भी किसी से कम नही थे; यारों,
रास्ते बदल देना भी हमारी आदत थी।।

Language: Hindi
Tag: शेर
1 Like · 286 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कातिल
कातिल
Gurdeep Saggu
■ एक विचार-
■ एक विचार-
*Author प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल एक प्रणय गीत +रमेशराज
ग़ज़ल एक प्रणय गीत +रमेशराज
कवि रमेशराज
गीत
गीत
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
बेशक नहीं आता मुझे मागने का
बेशक नहीं आता मुझे मागने का
shabina. Naaz
मेरी देह बीमार मानस का गेह है / मुसाफ़िर बैठा
मेरी देह बीमार मानस का गेह है / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
Wakt hi wakt ko batt  raha,
Wakt hi wakt ko batt raha,
Sakshi Tripathi
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
बुलंद हौंसले
बुलंद हौंसले
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जीवन में उन सपनों का कोई महत्व नहीं,
जीवन में उन सपनों का कोई महत्व नहीं,
Shubham Pandey (S P)
2331.पूर्णिका
2331.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
यादों को कहाँ छोड़ सकते हैं,समय चलता रहता है,यादें मन में रह
यादों को कहाँ छोड़ सकते हैं,समय चलता रहता है,यादें मन में रह
Meera Thakur
THE GREY GODDESS!
THE GREY GODDESS!
Dhriti Mishra
मिट्टी का बस एक दिया हूँ
मिट्टी का बस एक दिया हूँ
Chunnu Lal Gupta
जिसकी याद में हम दीवाने हो गए,
जिसकी याद में हम दीवाने हो गए,
Slok maurya "umang"
तुम याद आ रहे हो।
तुम याद आ रहे हो।
Taj Mohammad
लडकियाँ
लडकियाँ
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
अधीर मन खड़ा हुआ  कक्ष,
अधीर मन खड़ा हुआ कक्ष,
Nanki Patre
प्यार समंदर
प्यार समंदर
Ramswaroop Dinkar
*पाई जग में आयु है, सबने सौ-सौ वर्ष (कुंडलिया)*
*पाई जग में आयु है, सबने सौ-सौ वर्ष (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
कभी मिले नहीं है एक ही मंजिल पर जानें वाले रास्तें
कभी मिले नहीं है एक ही मंजिल पर जानें वाले रास्तें
Sonu sugandh
करगिल के वीर
करगिल के वीर
Shaily
भीम राव हैं , तारणहार मेरा।
भीम राव हैं , तारणहार मेरा।
Buddha Prakash
लौट कर वक्त
लौट कर वक्त
Dr fauzia Naseem shad
💐अज्ञात के प्रति-148💐
💐अज्ञात के प्रति-148💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ध्यान
ध्यान
Monika Verma
"प्रेमी हूँ मैं"
Dr. Kishan tandon kranti
इस दिल में .....
इस दिल में .....
sushil sarna
लिया समय ने करवट
लिया समय ने करवट
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
"साम","दाम","दंड" व् “भेद" की व्यथा
Dr. Harvinder Singh Bakshi
Loading...