Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Feb 2022 · 1 min read

नख-शिख हाइकु

सघन केश
काली घनघोर घटा
मनभावन छटा

उन्नत भाल
चमके बिंदिया लाल
करे कमाल

नयन सीमा
काजल रेखा पार
मोहे अपार

रक्त गुलाब
मधु सम अधर
ढायें कहर

गोरी संदली
बाहें फैली उल्लासित
करें आलिंगन

स्वर्ण शिखर
उन्नत युग्म कलश
जमे दृष्टि

कोमल कटि
कमनीय तन्तु सम
लचीली डाली

देखे पांव
कमल पुष्प द्वय
मन अर्पित

मौलिक
स्वरचित
सर्वाधिकार सुरक्षित
अश्वनी कुमार जायसवाल कानपुर

Language: Hindi
4 Likes · 4 Comments · 514 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ashwani Kumar Jaiswal
View all
You may also like:
हरि का घर मेरा घर है
हरि का घर मेरा घर है
Vandna thakur
नज़र नज़र का फर्क है साहेब...!!
नज़र नज़र का फर्क है साहेब...!!
Vishal babu (vishu)
बात
बात
Shyam Sundar Subramanian
ये न सोच के मुझे बस जरा -जरा पता है
ये न सोच के मुझे बस जरा -जरा पता है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
"अभी" उम्र नहीं है
Rakesh Rastogi
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
बाट जोहती पुत्र का,
बाट जोहती पुत्र का,
sushil sarna
काम से राम के ओर।
काम से राम के ओर।
Acharya Rama Nand Mandal
मित्र भाग्य बन जाता है,
मित्र भाग्य बन जाता है,
Buddha Prakash
अंग प्रदर्शन करने वाले जितने भी कलाकार है उनके चरित्र का अस्
अंग प्रदर्शन करने वाले जितने भी कलाकार है उनके चरित्र का अस्
Rj Anand Prajapati
तपिश धूप की तो महज पल भर की मुश्किल है साहब
तपिश धूप की तो महज पल भर की मुश्किल है साहब
Yogini kajol Pathak
गीत
गीत
जगदीश शर्मा सहज
छोड़ दिया
छोड़ दिया
Srishty Bansal
चाहे हमको करो नहीं प्यार, चाहे करो हमसे नफ़रत
चाहे हमको करो नहीं प्यार, चाहे करो हमसे नफ़रत
gurudeenverma198
दोहा- अभियान
दोहा- अभियान
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
एक ख्वाब सजाया था मैंने तुमको सोचकर
एक ख्वाब सजाया था मैंने तुमको सोचकर
डॉ. दीपक मेवाती
मुझे किसी को रंग लगाने की जरूरत नहीं
मुझे किसी को रंग लगाने की जरूरत नहीं
Ranjeet kumar patre
नए पुराने रूटीन के याचक
नए पुराने रूटीन के याचक
Dr MusafiR BaithA
'वर्दी की साख'
'वर्दी की साख'
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
(*खुद से कुछ नया मिलन*)
(*खुद से कुछ नया मिलन*)
Vicky Purohit
बेटी को जन्मदिन की बधाई
बेटी को जन्मदिन की बधाई
लक्ष्मी सिंह
2321.पूर्णिका
2321.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
भावुक हुए बहुत दिन हो गए
भावुक हुए बहुत दिन हो गए
Suryakant Dwivedi
है धरा पर पाप का हर अभिश्राप बाकी!
है धरा पर पाप का हर अभिश्राप बाकी!
Bodhisatva kastooriya
*पत्रिका समीक्षा*
*पत्रिका समीक्षा*
Ravi Prakash
"तुर्रम खान"
Dr. Kishan tandon kranti
एक मैसेज सुबह करते है
एक मैसेज सुबह करते है
शेखर सिंह
तेवरी का आस्वादन +रमेशराज
तेवरी का आस्वादन +रमेशराज
कवि रमेशराज
राम विवाह कि मेहंदी
राम विवाह कि मेहंदी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
इस दौर में सुनना ही गुनाह है सरकार।
इस दौर में सुनना ही गुनाह है सरकार।
Dr. ADITYA BHARTI
Loading...