Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Dec 2023 · 1 min read

नई शुरावत नई कहानियां बन जाएगी

नई शुरावत नई कहानियां बन जाएगी
नई दास्तां ए जिन्दगी लिख जाएगी।
मुश्किलों का दौर सामने आएगा
जिदगी का नया अध्याय बनाएगा।
जिंदगी का सिलसिला इस साल भी जारी रहेगा
रिश्तों का बनना टूटना रिश्तों पर भारी रहेगा।
इंसान ही इंसान को गिराता रहेगा
इंसान ही इंसान साथ निभाता भी रहेगा।
नए साल के साथ लोग भी बदल जाएंगे
कुछ उठेंगे तो कुछ गिरते हुए दिख जाएंगे।
नफरतों के दौर में भी प्यार का एहसास होगा
कही साथ तो कही अपनो से विश्वाश घात होगा।
साल के साथ लोगों की भावनाएं भी बदल जाएंगी
कुछ अच्छी तो कुछ बुरी बन कर रंग दिखाएगी।
जिंदगी जैसी है वैसी ही चलती जाएगी
कही धूप तो कही छाव भी आएगी।…

127 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मुक्तक
मुक्तक
Mahender Singh
बाढ़ और इंसान।
बाढ़ और इंसान।
Buddha Prakash
3176.*पूर्णिका*
3176.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
The life of an ambivert is the toughest. You know why? I'll
The life of an ambivert is the toughest. You know why? I'll
Sukoon
बुंदेली दोहा- पैचान१
बुंदेली दोहा- पैचान१
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
अधिकांश होते हैं गुमराह
अधिकांश होते हैं गुमराह
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
समझ
समझ
Dinesh Kumar Gangwar
मेरी कलम
मेरी कलम
Dr.Priya Soni Khare
सेंधी दोहे
सेंधी दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
रखे हों पास में लड्डू, न ललचाए मगर रसना।
रखे हों पास में लड्डू, न ललचाए मगर रसना।
डॉ.सीमा अग्रवाल
शादीशुदा🤵👇
शादीशुदा🤵👇
डॉ० रोहित कौशिक
बादल
बादल
लक्ष्मी सिंह
रिश्तो से जितना उलझोगे
रिश्तो से जितना उलझोगे
Harminder Kaur
बीती एक और होली, व्हिस्की ब्रैंडी रम वोदका रंग ख़ूब चढे़--
बीती एक और होली, व्हिस्की ब्रैंडी रम वोदका रंग ख़ूब चढे़--
Shreedhar
सत्य की खोज अधूरी है
सत्य की खोज अधूरी है
VINOD CHAUHAN
जब साँसों का देह से,
जब साँसों का देह से,
sushil sarna
#आज_का_नारा
#आज_का_नारा
*Author प्रणय प्रभात*
रात के अंँधेरे का सौंदर्य वही बता सकता है जिसमें बहुत सी रात
रात के अंँधेरे का सौंदर्य वही बता सकता है जिसमें बहुत सी रात
Neerja Sharma
इससे ज़्यादा
इससे ज़्यादा
Dr fauzia Naseem shad
बरसात
बरसात
surenderpal vaidya
ग़ज़ल _रखोगे कब तलक जिंदा....
ग़ज़ल _रखोगे कब तलक जिंदा....
शायर देव मेहरानियां
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
देखिए आप अपना भाईचारा कायम रखे
देखिए आप अपना भाईचारा कायम रखे
शेखर सिंह
पीकर भंग जालिम खाई के पान,
पीकर भंग जालिम खाई के पान,
डी. के. निवातिया
"शीशा और रिश्ता"
Dr. Kishan tandon kranti
*दादू के पत्र*
*दादू के पत्र*
Ravi Prakash
राम-वन्दना
राम-वन्दना
विजय कुमार नामदेव
गर्दिश का माहौल कहां किसी का किरदार बताता है.
गर्दिश का माहौल कहां किसी का किरदार बताता है.
कवि दीपक बवेजा
इक्कीस मनकों की माला हमने प्रभु चरणों में अर्पित की।
इक्कीस मनकों की माला हमने प्रभु चरणों में अर्पित की।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
होली के रंग
होली के रंग
Anju ( Ojhal )
Loading...