Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Aug 9, 2016 · 1 min read

नई पहल

शहीदों के लिये इक दीपक जलाइये
पर्यावरण के लिये इक पौधा लगाइये
***************************
हो जायेगी आपकी आत्मा भी प्रसन्न
बस इक दफा तो ये नुख्सा आजमाइये
****************************
कपिल कुमार
09/08/2016

159 Views
You may also like:
कुछ दिन की है बात ,सभी जन घर में रह...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*जय हिंदी* ⭐⭐⭐
पंकज कुमार कर्ण
बहुत प्यार करता हूं तुमको
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
माँ, हर बचपन का भगवान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मजदूरों का जीवन।
Anamika Singh
सुन्दर घर
Buddha Prakash
पिता
Shailendra Aseem
पितृ स्तुति
दुष्यन्त 'बाबा'
क्या मेरी कलाई सूनी रहेगी ?
Kumar Anu Ojha
सफलता कदम चूमेगी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
भगवान हमारे पापा हैं
Lucky Rajesh
आसान नहीं होता है पिता बन पाना
Poetry By Satendra
कोई एहसास है शायद
Dr fauzia Naseem shad
The Sacrifice of Ravana
Abhineet Mittal
अब भी श्रम करती है वृद्धा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Blessings Of The Lord Buddha
Buddha Prakash
✍️बड़ी ज़िम्मेदारी है ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता
Buddha Prakash
पवनपुत्र, हे ! अंजनि नंदन ....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
न जाने क्यों
Dr fauzia Naseem shad
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
ख़्वाहिश पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
ठोकर खाया हूँ
Anamika Singh
मेरे पापा
Anamika Singh
हम भूल तो नहीं सकते
Dr fauzia Naseem shad
जीवन के उस पार मिलेंगे
Shivkumar Bilagrami
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
चराग़ों को जलाने से
Shivkumar Bilagrami
✍️स्कूल टाइम ✍️
Vaishnavi Gupta
मेरे पिता है प्यारे पिता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
Loading...