Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jul 2023 · 1 min read

धूम भी मच सकती है

धूम भी मंच सकती है,
क्योंकि जोश मुझमें भी जागा है,
और आजाद तू भी हुई है,
आग तुझमें भी लगी है,
चिंगारी मेरे सीने में भी है,
चोट तुझको भी लगी है,
जख्म मेरा भी हरा है।

धूम भी मच सकती है,
रफ्त ऊंची भी हो सकती है,
क्योंकि नाक तेरी भी ऊंची है,
सिर मेरा भी उन्नत है,
पवित्रता तुझमें भी नहीं है,
निर्दोष मैं भी नहीं हूँ,
क्या कहूँ तुमसे मैं,
कायनात बदल भी सकती है।

धूम भी मच सकती है,
और अब मैं चाहता हूँ,
कि बर्बादी अपनी नहीं करुँ,
तेरे लिए अपना खून नहीं बहाऊँ,
बताऊंगा अब तो मैं,
तुम्हारे आँसू और खून,
मुझको मेरे सवालों का जवाब चाहिए,
इसलिए धूम भी मच सकती है।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
135 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अभी बाकी है
अभी बाकी है
Vandna Thakur
जाति बनाम जातिवाद।
जाति बनाम जातिवाद।
Acharya Rama Nand Mandal
दर्शक की दृष्टि जिस पर गड़ जाती है या हम यूं कहे कि भारी ताद
दर्शक की दृष्टि जिस पर गड़ जाती है या हम यूं कहे कि भारी ताद
Rj Anand Prajapati
मुबहम हो राह
मुबहम हो राह
Satish Srijan
कभी हक़ किसी पर
कभी हक़ किसी पर
Dr fauzia Naseem shad
सियासत कमतर नहीं शतरंज के खेल से ,
सियासत कमतर नहीं शतरंज के खेल से ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
इंसान क्यों ऐसे इतना जहरीला हो गया है
इंसान क्यों ऐसे इतना जहरीला हो गया है
gurudeenverma198
Hello Sun!
Hello Sun!
Buddha Prakash
आना भी तय होता है,जाना भी तय होता है
आना भी तय होता है,जाना भी तय होता है
Shweta Soni
सितम गर हुआ है।
सितम गर हुआ है।
Taj Mohammad
तुम्हें नहीं पता, तुम कितनों के जान हो…
तुम्हें नहीं पता, तुम कितनों के जान हो…
Anand Kumar
खवाब है तेरे तु उनको सजालें
खवाब है तेरे तु उनको सजालें
Swami Ganganiya
■ समझदारों के लिए संकेत बहुत होता है। बशर्ते आप सच में समझदा
■ समझदारों के लिए संकेत बहुत होता है। बशर्ते आप सच में समझदा
*Author प्रणय प्रभात*
किए जिन्होंने देश हित
किए जिन्होंने देश हित
महेश चन्द्र त्रिपाठी
*हुस्न से विदाई*
*हुस्न से विदाई*
Dushyant Kumar
मैं तो महज आवाज हूँ
मैं तो महज आवाज हूँ
VINOD CHAUHAN
तेरी फ़ितरत, तेरी कुदरत
तेरी फ़ितरत, तेरी कुदरत
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जाने कहां गई वो बातें
जाने कहां गई वो बातें
Suryakant Dwivedi
वसंत पंचमी
वसंत पंचमी
Dr. Vaishali Verma
"परखना सीख जाओगे "
Slok maurya "umang"
“Your work is going to fill a large part of your life, and t
“Your work is going to fill a large part of your life, and t
पूर्वार्थ
जन्म से मृत्यु तक भारत वर्ष मे संस्कारों का मेला है
जन्म से मृत्यु तक भारत वर्ष मे संस्कारों का मेला है
Satyaveer vaishnav
बाल कविता: नदी
बाल कविता: नदी
Rajesh Kumar Arjun
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Mukesh Kumar Sonkar
*मनुज ले राम का शुभ नाम, भवसागर से तरते हैं (मुक्तक)*
*मनुज ले राम का शुभ नाम, भवसागर से तरते हैं (मुक्तक)*
Ravi Prakash
मेरी मलम की माँग
मेरी मलम की माँग
Anil chobisa
सड़क
सड़क
SHAMA PARVEEN
मत सता गरीब को वो गरीबी पर रो देगा।
मत सता गरीब को वो गरीबी पर रो देगा।
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
हमारी सोच
हमारी सोच
Neeraj Agarwal
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
Loading...