Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jan 2024 · 1 min read

(((((( (धूप ठंढी मे मुझे बहुत पसंद है))))))))

(((((( (धूप ठंढी मे मुझे बहुत पसंद है))))))))

जिसके लिए मै कई दिनों तक तरसा
वो आज एक मोड पर मुझे दिखा
लेकिन फिर चला गया
बहुत दुख हुआ घर जहा दिखा वहाँ से घर तक रोते हुए आया लेकिन कुछ मतलब नही मिला और घर आया बताने लगा तो लोग पूछने लगे की कौन है….?
तो मैने बताया की धूप आज प्रतापगढ़ मे सामने आया लेकिन फिर चला गया 19/01/2024
(मेरे अनुभव… ऋतुराज वर्मा)

151 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बेसबब हैं ऐशो इशरत के मकाँ
बेसबब हैं ऐशो इशरत के मकाँ
अरशद रसूल बदायूंनी
2676.*पूर्णिका*
2676.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सद्विचार
सद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
द्रोण की विवशता
द्रोण की विवशता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"बूढ़ा" तो एक दिन
*Author प्रणय प्रभात*
अपने मन मंदिर में, मुझे रखना, मेरे मन मंदिर में सिर्फ़ तुम रहना…
अपने मन मंदिर में, मुझे रखना, मेरे मन मंदिर में सिर्फ़ तुम रहना…
Anand Kumar
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
*जागा भारत चल पड़ा, स्वाभिमान की ओर (कुंडलिया)*
*जागा भारत चल पड़ा, स्वाभिमान की ओर (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"" *तथता* "" ( महात्मा बुद्ध )
सुनीलानंद महंत
हाइकु-गर्मी
हाइकु-गर्मी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
हुनर है मुझमें
हुनर है मुझमें
Satish Srijan
* याद है *
* याद है *
surenderpal vaidya
पेड़ और ऑक्सीजन
पेड़ और ऑक्सीजन
विजय कुमार अग्रवाल
ग़र वो जानना चाहतें तो बताते हम भी,
ग़र वो जानना चाहतें तो बताते हम भी,
ओसमणी साहू 'ओश'
कर्म कभी माफ नहीं करता
कर्म कभी माफ नहीं करता
नूरफातिमा खातून नूरी
कुछ हाथ भी ना आया
कुछ हाथ भी ना आया
Dalveer Singh
उतार देती हैं
उतार देती हैं
Dr fauzia Naseem shad
"जेब्रा"
Dr. Kishan tandon kranti
बहुत समय हो गया, मैं कल आया,
बहुत समय हो गया, मैं कल आया,
पूर्वार्थ
बहादुर बेटियाँ
बहादुर बेटियाँ
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
कोहरा काला घना छट जाएगा।
कोहरा काला घना छट जाएगा।
Neelam Sharma
*देह का दबाव*
*देह का दबाव*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अनंतनाग में शहीद हुए
अनंतनाग में शहीद हुए
Harminder Kaur
ख़ुश-फ़हमी
ख़ुश-फ़हमी
Fuzail Sardhanvi
मुफलिसो और बेकशों की शान में मेरा ईमान बोलेगा।
मुफलिसो और बेकशों की शान में मेरा ईमान बोलेगा।
Phool gufran
सत्य पर चलना बड़ा कठिन है
सत्य पर चलना बड़ा कठिन है
Udaya Narayan Singh
"अकेलापन"
Pushpraj Anant
तूफान सी लहरें मेरे अंदर है बहुत
तूफान सी लहरें मेरे अंदर है बहुत
कवि दीपक बवेजा
लेकिन क्यों
लेकिन क्यों
Dinesh Kumar Gangwar
माँ का घर (नवगीत) मातृदिवस पर विशेष
माँ का घर (नवगीत) मातृदिवस पर विशेष
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...