Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jul 2016 · 1 min read

धुंधला धुंधला अक्स

धुंधला धुंधला अक़्स, ख़ुशी कम दिखती है
ये आँखे जब आईने में नम दिखती है

आ तो गया हमको ग़मों से निभाना लेकिन
हमसे अब हर एक ख़ुशी बरहम दिखती है

आँखों में चुभ जाते हैं ख़्वाबों के टुकड़े
नींदों में बेचैनी सी हरदम दिखती है

आसमान कितना रोया है तुम क्या जानो
तुमको तो फूलों पे बस शबनम दिखती है

दिल तो टूटा है नदीश का माना लेकिन
जाने-ग़ज़ल मेरी तू क्यों पुरनम दिखती है

© लोकेश नदीश

201 Views
You may also like:
हम ना हंसे हैं।
Taj Mohammad
*झूल रहा है टॉमी झूला( बाल कविता )*
Ravi Prakash
तुमसे कहते रहे,भुला दो मुझको
Kaur Surinder
मुझसा प्यार नहीं मिलेगा
gurudeenverma198
रैन बसेरा
Shekhar Chandra Mitra
Advice
Shyam Sundar Subramanian
कुछ दर्द भी बे'मिसाल है
Dr fauzia Naseem shad
Affection couldn't be found in shallow spaces.
Manisha Manjari
राखी त्यौहार बंधन का - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
कारगिल फतह का २३वां वर्ष
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अगर प्यार करते हो मुझको
Ram Krishan Rastogi
हम जनमदिन को कुछ यूँ मनाने लगे
अरविन्द राजपूत 'कल्प'
'कई बार प्रेम क्यों ?'
Godambari Negi
शोर मचाने वाले गिरोह
Anamika Singh
ग्रहण
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
देवता कोई न था
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नई दिल्ली
Dr. Girish Chandra Agarwal
बुंदेली हाइकु- (राजीव नामदेव राना लिधौरी)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
//... कैसे हो भैया ...//
Chinta netam " मन "
पिता
Abhishek Pandey Abhi
लोग कहते हैं कैसा आदमी हूं।
सत्य कुमार प्रेमी
आज नहीं तो निश्चय कल
Satish Srijan
अध्यापक दिवस
Satpallm1978 Chauhan
वैदेही से राम मिले
Dr. Sunita Singh
आदित्य हृदय स्त्रोत
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
✍️टिकमार्क✍️
'अशांत' शेखर
सावन की बौछार
सिद्धार्थ गोरखपुरी
रोती 'हिंदी'-बिलखती 'भाषा'
पंकज कुमार कर्ण
बिहार छात्र
Utkarsh Dubey “Kokil”
कोई दीपक ऐंसा भी हो / (मुक्तक)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...