Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Jul 26, 2016 · 1 min read

धुंधला धुंधला अक्स

धुंधला धुंधला अक़्स, ख़ुशी कम दिखती है
ये आँखे जब आईने में नम दिखती है

आ तो गया हमको ग़मों से निभाना लेकिन
हमसे अब हर एक ख़ुशी बरहम दिखती है

आँखों में चुभ जाते हैं ख़्वाबों के टुकड़े
नींदों में बेचैनी सी हरदम दिखती है

आसमान कितना रोया है तुम क्या जानो
तुमको तो फूलों पे बस शबनम दिखती है

दिल तो टूटा है नदीश का माना लेकिन
जाने-ग़ज़ल मेरी तू क्यों पुरनम दिखती है

© लोकेश नदीश

173 Views
You may also like:
भूखे पेट न सोए कोई ।
Buddha Prakash
मोर के मुकुट वारो
शेख़ जाफ़र खान
सूरज से मनुहार (ग्रीष्म-गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
रुक-रुक बरस रहे मतवारे / (सावन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
गुमनाम ही सही....
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
इंतजार
Anamika Singh
बहुत प्यार करता हूं तुमको
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जंगल के राजा
Abhishek Pandey Abhi
घनाक्षरी छंद
शेख़ जाफ़र खान
नर्मदा के घाट पर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
One should not commit suicide !
Buddha Prakash
कुछ नहीं इंसान को
Dr fauzia Naseem shad
पिता एक विश्वास - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
पिता
Keshi Gupta
हम भटकते है उन रास्तों पर जिनकी मंज़िल हमारी नही,
Vaishnavi Gupta
छोटा-सा परिवार
श्री रमण 'श्रीपद्'
राष्ट्रवाद का रंग
मनोज कर्ण
रिश्तों की डोर
मनोज कर्ण
विचार
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
पिता
विजय कुमार 'विजय'
पैसा बना दे मुझको
Shivkumar Bilagrami
काश मेरा बचपन फिर आता
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
रूठ गई हैं बरखा रानी
Dr Archana Gupta
✍️काश की ऐसा हो पाता ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता के चरणों को नमन ।
Buddha Prakash
हायकु मुक्तक-पिता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
श्रम पिता का समाया
शेख़ जाफ़र खान
वेदों की जननी... नमन तुझे,
मनोज कर्ण
दर्द इनका भी
Dr fauzia Naseem shad
ज़िंदगी से सवाल
Dr fauzia Naseem shad
Loading...