Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 May 2023 · 1 min read

धुँधलाती इक साँझ को, उड़ा परिन्दा ,हाय !

धुँधलाती इक साँझ को, उड़ा परिन्दा ,हाय !
श्रृंगार धरा रह गया ,निश्चेष्ट पड़ी काय ।।

@पाखी

2 Likes · 317 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
विदंबना
विदंबना
Bodhisatva kastooriya
मृत्यु भय
मृत्यु भय
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"अकेलापन"
Dr. Kishan tandon kranti
..
..
*प्रणय प्रभात*
तपोवन है जीवन
तपोवन है जीवन
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
दस लक्षण पर्व
दस लक्षण पर्व
Seema gupta,Alwar
मोल
मोल
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
धरा प्रकृति माता का रूप
धरा प्रकृति माता का रूप
Buddha Prakash
सत्ता परिवर्तन
सत्ता परिवर्तन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बच्चों के पिता
बच्चों के पिता
Dr. Kishan Karigar
हिम्मत कर लड़,
हिम्मत कर लड़,
पूर्वार्थ
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अरमान गिर पड़े थे राहों में
अरमान गिर पड़े थे राहों में
सिद्धार्थ गोरखपुरी
लाल रंग मेरे खून का,तेरे वंश में बहता है
लाल रंग मेरे खून का,तेरे वंश में बहता है
Pramila sultan
फितरत
फितरत
Akshay patel
3314.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3314.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
मैं तो हमेशा बस मुस्कुरा के चलता हूॅ॑
मैं तो हमेशा बस मुस्कुरा के चलता हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
मंज़र
मंज़र
अखिलेश 'अखिल'
*पुस्तक (बाल कविता)*
*पुस्तक (बाल कविता)*
Ravi Prakash
बुढ़ापे में अभी भी मजे लेता हूं (हास्य व्यंग)
बुढ़ापे में अभी भी मजे लेता हूं (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
पर्यावरण से न कर खिलवाड़
पर्यावरण से न कर खिलवाड़
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
पैसों के छाँव तले रोता है न्याय यहां (नवगीत)
पैसों के छाँव तले रोता है न्याय यहां (नवगीत)
Rakmish Sultanpuri
!! युवा मन !!
!! युवा मन !!
Akash Yadav
ना अब मनमानी करता हूं
ना अब मनमानी करता हूं
Keshav kishor Kumar
जब भी किसी कार्य को पूर्ण समर्पण के साथ करने के बाद भी असफलत
जब भी किसी कार्य को पूर्ण समर्पण के साथ करने के बाद भी असफलत
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बांध रखा हूं खुद को,
बांध रखा हूं खुद को,
Shubham Pandey (S P)
पुरानी खंडहरों के वो नए लिबास अब रात भर जगाते हैं,
पुरानी खंडहरों के वो नए लिबास अब रात भर जगाते हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
नक़ली असली चेहरा
नक़ली असली चेहरा
Dr. Rajeev Jain
कुछ लड़कों का दिल, सच में टूट जाता हैं!
कुछ लड़कों का दिल, सच में टूट जाता हैं!
The_dk_poetry
दीवारों की चुप्पी में
दीवारों की चुप्पी में
Sangeeta Beniwal
Loading...