Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Jun 2018 · 1 min read

धर्म या धंधा

धर्म या धंधा
*************
धर्म के नाम ये लड़ाई आखिर मजा क्या है।
मानवता करें शर्मसार बोलो सजा क्या है।

मत पूछ बुरा हाल इस इस जमाने का।
खुद को माने ये भगवान फिर खुदा क्या है।

कही गेरूए का राज कहीं है टोपी जालीदार।
खुद को मानें रहबर आज इनको हुआ क्या है।

इनके भरे हुए भंडार कही पे भूखा है इंसान-
प्रभु यहीं तेरा जो न्याय फिर खता क्या है।

ये धर्म के ठेकेदार बने है जुर्म के पहरेदार-
मानवता क्षुब्ध करे चित्कार दवा क्या है।
………
✍✍पं.संजीव शुक्ल “सचिन”
मुसहरवा (मंशानगर)
पश्चिमी चम्पारण
बिहार

463 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from संजीव शुक्ल 'सचिन'
View all
You may also like:
*****देव प्रबोधिनी*****
*****देव प्रबोधिनी*****
Kavita Chouhan
हृदय को ऊॅंचाइयों का भान होगा।
हृदय को ऊॅंचाइयों का भान होगा।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
2734. *पूर्णिका*
2734. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गुलाबों का सौन्दर्य
गुलाबों का सौन्दर्य
Ritu Asooja
ग़ज़ल _ मैं ग़ज़ल आपकी, क़ाफिया आप हैं ।
ग़ज़ल _ मैं ग़ज़ल आपकी, क़ाफिया आप हैं ।
Neelofar Khan
जब तक हो तन में प्राण
जब तक हो तन में प्राण
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
👌आभास👌
👌आभास👌
*प्रणय प्रभात*
यारो ऐसी माॅं होती है, यारो वो ही माॅं होती है।
यारो ऐसी माॅं होती है, यारो वो ही माॅं होती है।
सत्य कुमार प्रेमी
मालिक मेरे करना सहारा ।
मालिक मेरे करना सहारा ।
Buddha Prakash
बेचारी माँ
बेचारी माँ
Shaily
तल्खियां
तल्खियां
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
बेटी है हम हमें भी शान से जीने दो
बेटी है हम हमें भी शान से जीने दो
SHAMA PARVEEN
हमारे ख्याब
हमारे ख्याब
Aisha Mohan
बेवजह किसी पे मरता कौन है
बेवजह किसी पे मरता कौन है
Kumar lalit
"कभी"
Dr. Kishan tandon kranti
💐💐कुण्डलिया निवेदन💐💐
💐💐कुण्डलिया निवेदन💐💐
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
जिंदगी और जीवन तो कोरा कागज़ होता हैं।
जिंदगी और जीवन तो कोरा कागज़ होता हैं।
Neeraj Agarwal
बोल
बोल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
खुला आसमान
खुला आसमान
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
किसी से दोस्ती ठोक–बजा कर किया करो, नहीं तो, यह बालू की भीत साबित
किसी से दोस्ती ठोक–बजा कर किया करो, नहीं तो, यह बालू की भीत साबित
Dr MusafiR BaithA
किस बात का गुमान है
किस बात का गुमान है
भरत कुमार सोलंकी
ఇదే నా భారత దేశం.
ఇదే నా భారత దేశం.
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
अड़बड़ मिठाथे
अड़बड़ मिठाथे
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
लिबास -ए – उम्मीद सुफ़ेद पहन रक्खा है
लिबास -ए – उम्मीद सुफ़ेद पहन रक्खा है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
भाषाओं पे लड़ना छोड़ो, भाषाओं से जुड़ना सीखो, अपनों से मुँह ना
भाषाओं पे लड़ना छोड़ो, भाषाओं से जुड़ना सीखो, अपनों से मुँह ना
DrLakshman Jha Parimal
मुझसे मिलने में तुम्हें,
मुझसे मिलने में तुम्हें,
Dr. Man Mohan Krishna
दिल पर साजे बस हिन्दी भाषा
दिल पर साजे बस हिन्दी भाषा
Sandeep Pande
करते बर्बादी दिखे , भोजन की हर रोज (कुंडलिया)
करते बर्बादी दिखे , भोजन की हर रोज (कुंडलिया)
Ravi Prakash
सारे  ज़माने  बीत  गये
सारे ज़माने बीत गये
shabina. Naaz
Loading...