Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Nov 10, 2016 · 1 min read

धर्म क्या है ?

विषय – धर्म

धर्म क्या है ?
धर्म कोई पंथ नहीं,
धर्म कोई संत नहीं ।
धर्म की ना शुरूआत है,
धर्म का कोई अंत नहीं ।।

धर्म क्या है ?
धर्म मनोकामना पूर्ति के लिए
मंदिरों में किया गया दान नहीं,
धर्म के आगे सब नतमस्तक
धर्म से बढ़कर कोई महान नहीं ।

धर्म क्या है ?
प्राणियों पे क्षमा करना,
पशुओं पे दया करना ।
मानव होकर दया व
क्षमा का भाव धरना ।

धर्म क्या है ?
धर्म है अपने आपको
मानव सिद्ध करना,
ना कि केवल दिखावा कर
अपने नाम को प्रसिद्ध करना ।।

धर्म क्या है ?
धर्म वो है जो नाश करदे
मानव की दानवता
‘नवीन’ की नजर में है
एक ही धर्म केवल “मानवता”

– नवीन कुमार जैन

212 Views
You may also like:
✍️मैं जब पी लेता हूँ✍️
"अशांत" शेखर
पिता की सीख
Anamika Singh
कल कह सकता है वह ऐसा
gurudeenverma198
'मेरी यादों में अब तक वे लम्हे बसे'
Rashmi Sanjay
पत्ते ने अगर अपना रंग न बदला होता
Dr. Alpa H. Amin
युवता
Vijaykumar Gundal
चलना ही पड़ेगा
Mahendra Narayan
✍️मिसाले✍️
"अशांत" शेखर
Waqt
ananya rai parashar
दोस्त जीवन में एक सच्चा दोस्त ज़रूर कमाना….
Piyush Goel
मज़ाक बन के रह गए हैं।
Taj Mohammad
I love to vanish like that shooting star.
Manisha Manjari
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
तुम मेरे वो तुम हो...
Sapna K S
बदल रहा है देश मेरा
Anamika Singh
अग्रवाल धर्मशाला में संगीतमय श्री रामकथा
Ravi Prakash
सुन री पवन।
Taj Mohammad
♡ तेरा ख़याल ♡
Dr. Alpa H. Amin
ऐ ...तो जिंदगी हैंं...!!!!
Dr. Alpa H. Amin
मैं बेटी हूँ।
Anamika Singh
पिता तुम हमारे
Dr. Pratibha Mahi
या इलाही।
Taj Mohammad
We Would Be Connected Actually
Manisha Manjari
अनमोल जीवन
आकाश महेशपुरी
जिंदगी का मशवरा
Krishan Singh
पत्थर के भगवान
Ashish Kumar
लाल टोपी
मनोज कर्ण
शून्य है कमाल !
Buddha Prakash
पिता अम्बर हैं इस धारा का
Nitu Sah
हम इतने भी बुरे नही,जितना लोगो ने बताया है
Ram Krishan Rastogi
Loading...