Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Feb 2024 · 1 min read

धर्म की खिचड़ी

धर्म की खिचड़ी

सुबह-सुबह
पड़ती है कानों में
गुरद्वारे से आती
गुरबाणी की आवाज
तभी हो जाती है शुरु
मंदिर की आरती
दूसरी ओर से
आती हैं आवाजें
अजानों की
नहीं समझ पाता
किस से
मिल रही है
क्या शिक्षा
सब आवाजें मिलकर
बना डालती हैं
धर्म की खिचड़ी।

-विनोद सिल्ला©

Language: Hindi
1 Like · 63 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
लहू जिगर से बहा फिर
लहू जिगर से बहा फिर
Shivkumar Bilagrami
Apni Qimat
Apni Qimat
Dr fauzia Naseem shad
.......,,
.......,,
शेखर सिंह
भोर अगर है जिंदगी,
भोर अगर है जिंदगी,
sushil sarna
हिन्दी दोहा बिषय- तारे
हिन्दी दोहा बिषय- तारे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"पवित्रता"
Dr. Kishan tandon kranti
विष का कलश लिये धन्वन्तरि
विष का कलश लिये धन्वन्तरि
कवि रमेशराज
कब मिलोगी मां.....
कब मिलोगी मां.....
Madhavi Srivastava
*अहम ब्रह्मास्मि*
*अहम ब्रह्मास्मि*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चाँद  भी  खूबसूरत
चाँद भी खूबसूरत
shabina. Naaz
🚩वैराग्य
🚩वैराग्य
Pt. Brajesh Kumar Nayak
■ लानत ऐसे सिस्टम पर।।
■ लानत ऐसे सिस्टम पर।।
*Author प्रणय प्रभात*
The Magical Darkness
The Magical Darkness
Manisha Manjari
कृष्णा सोबती के उपन्यास 'समय सरगम' में बहुजन समाज के प्रति पूर्वग्रह : MUSAFIR BAITHA
कृष्णा सोबती के उपन्यास 'समय सरगम' में बहुजन समाज के प्रति पूर्वग्रह : MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
** मुक्तक **
** मुक्तक **
surenderpal vaidya
मातु शारदे वंदना
मातु शारदे वंदना
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
जहां तक तुम सोच सकते हो
जहां तक तुम सोच सकते हो
Ankita Patel
समर्पण
समर्पण
Sanjay ' शून्य'
सत्य
सत्य
देवेंद्र प्रताप वर्मा 'विनीत'
बेटी की शादी
बेटी की शादी
विजय कुमार अग्रवाल
बाल कविता: मोटर कार
बाल कविता: मोटर कार
Rajesh Kumar Arjun
भारत ने रचा इतिहास।
भारत ने रचा इतिहास।
Anil Mishra Prahari
अति वृष्टि
अति वृष्टि
लक्ष्मी सिंह
क्यों ? मघुर जीवन बर्बाद कर
क्यों ? मघुर जीवन बर्बाद कर
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*साबुन से धोकर यद्यपि तुम, मुखड़े को चमकाओगे (हिंदी गजल)*
*साबुन से धोकर यद्यपि तुम, मुखड़े को चमकाओगे (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
चुनाव में मीडिया की भूमिका: राकेश देवडे़ बिरसावादी
चुनाव में मीडिया की भूमिका: राकेश देवडे़ बिरसावादी
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
"राज़" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
शिमला
शिमला
Dr Parveen Thakur
भेड़ चालों का रटन हुआ
भेड़ चालों का रटन हुआ
Vishnu Prasad 'panchotiya'
सत्य होता सामने
सत्य होता सामने
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Loading...