Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Apr 2023 · 1 min read

धर्मनिरपेक्ष मूल्य

धार्मिक चरम पंथ के
उभार के इस युग में!
धार्मिक कट्टर पंथ के
उभार के इस युग में!!
धर्मनिरपेक्ष मूल्यों को
बचाना ही होगा हमें!
धार्मिक पोंगा पंथ के
उभार के इस युग में!!
#संविधान #लोकतंत्र #नौजवान
#धर्मनिरपेक्षता #Secularism
#अंबेडकरवाद #JaiBhim #विपक्ष
#Opposition #Constitution

Language: Hindi
241 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कि हम हुआ करते थे इश्क वालों के वाक़िल कभी,
कि हम हुआ करते थे इश्क वालों के वाक़िल कभी,
Vishal babu (vishu)
डॉ. नामवर सिंह की रसदृष्टि या दृष्टिदोष
डॉ. नामवर सिंह की रसदृष्टि या दृष्टिदोष
कवि रमेशराज
लिव-इन रिलेशनशिप
लिव-इन रिलेशनशिप
लक्ष्मी सिंह
कुछ पंक्तियाँ
कुछ पंक्तियाँ
आकांक्षा राय
3296.*पूर्णिका*
3296.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मोहब्बत का पैगाम
मोहब्बत का पैगाम
Ritu Asooja
गुज़रे वक़्त ने छीन लिया था सब कुछ,
गुज़रे वक़्त ने छीन लिया था सब कुछ,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"बड़ पीरा हे"
Dr. Kishan tandon kranti
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
आँखों में उसके बहते हुए धारे हैं,
आँखों में उसके बहते हुए धारे हैं,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
कर ही बैठे हैं हम खता देखो
कर ही बैठे हैं हम खता देखो
Dr Archana Gupta
कुछ पल अपने लिए
कुछ पल अपने लिए
Mukesh Kumar Sonkar
Legal Quote
Legal Quote
GOVIND UIKEY
माणुष
माणुष
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
World Tobacco Prohibition Day
World Tobacco Prohibition Day
Tushar Jagawat
आम आदमी की दास्ताँ
आम आदमी की दास्ताँ
Dr. Man Mohan Krishna
……..नाच उठी एकाकी काया
……..नाच उठी एकाकी काया
Rekha Drolia
अगर ना मिले सुकून कहीं तो ढूंढ लेना खुद मे,
अगर ना मिले सुकून कहीं तो ढूंढ लेना खुद मे,
Ranjeet kumar patre
बादल बनके अब आँसू आँखों से बरसते हैं ।
बादल बनके अब आँसू आँखों से बरसते हैं ।
Neelam Sharma
गर्म दोपहर की ठंढी शाम हो तुम
गर्म दोपहर की ठंढी शाम हो तुम
Rituraj shivem verma
स्क्रीनशॉट बटन
स्क्रीनशॉट बटन
Karuna Goswami
*गाओ हर्ष विभोर हो, आया फागुन माह (कुंडलिया)
*गाओ हर्ष विभोर हो, आया फागुन माह (कुंडलिया)
Ravi Prakash
परिदृश्य
परिदृश्य
Shyam Sundar Subramanian
मिलना तो होगा नही अब ताउम्र
मिलना तो होगा नही अब ताउम्र
Dr Manju Saini
नई बहू
नई बहू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
16- उठो हिन्द के वीर जवानों
16- उठो हिन्द के वीर जवानों
Ajay Kumar Vimal
Good morning
Good morning
Neeraj Agarwal
तू सच में एक दिन लौट आएगी मुझे मालूम न था…
तू सच में एक दिन लौट आएगी मुझे मालूम न था…
Anand Kumar
आजकल का प्राणी कितना विचित्र है,
आजकल का प्राणी कितना विचित्र है,
Divya kumari
■ कविता-
■ कविता-
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...