Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jun 2016 · 1 min read

धरा स्वर्ग सम बन जायेंगे

?
धरा स्वर्ग सम बन जाएंगे
〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰
धरा स्वर्ग सम बन जाएगा
जिस दिन सब सुशिक्षित होंगे ।
प्रेम न्याय ही धर्म बनेगा
जिस दिन सब सतदीक्षित होंगे ।।

न्याय धर्म जब बन जायेंगे
सबके सम अधिकार रहेंगे ।
हर बच्चे को शिक्षा दीक्षा
प्रतिभा पर रोजगार रहेंगे ।।
हर बस्ती में उचित व्यवस्था
हर मानव संरक्षित होंगे ।
धरा स्वर्ग सम बन जाएंगे……….

हर विपदा की एक दवा है
हर व्यक्ति पर ध्यान रहेंगे ।
हर हर घर घर न्याय न्याय अब
हर मस्तक पर ज्ञान रहेंगे ।।
हर एक पद और हर अधिकारी
सात्विक और परीक्षित होंगे ।
धरा स्वर्ग सम बन जायेंगे…………….

नित्य सत्य का दर्शन होगा
प्रभा तिमिर का नाश करेंगे ।
देव दूत अब न्याय दूत बन
न्याय का पुनर्विचार करेंगे ।।
न्याय सत्य कानून बनेंगे
सत्य धर्म से रक्षित होंगे ।
धरा स्वर्ग सम बन जाएगे………….


-(सामरिक अरुण)
सदस्य राष्ट्रीय कार्यकारिणी (मध्यम)
न्यायधर्मसभा हरिद्वार
01/05/2016
www.nyayadharmsabha.org

Language: Hindi
Tag: गीत
389 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ग्लोबल वार्मिंग :चिंता का विषय
ग्लोबल वार्मिंग :चिंता का विषय
कवि अनिल कुमार पँचोली
इतनी खुबसूरत नही होती मोहब्बत जितनी शायरो ने बना रखी है,
इतनी खुबसूरत नही होती मोहब्बत जितनी शायरो ने बना रखी है,
पूर्वार्थ
रिश्ता - दीपक नीलपदम्
रिश्ता - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
बिटिया !
बिटिया !
Sangeeta Beniwal
सफलता की ओर
सफलता की ओर
Vandna Thakur
जीवन का मुस्कान
जीवन का मुस्कान
Awadhesh Kumar Singh
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
दोहा
दोहा
sushil sarna
#करना है, मतदान हमको#
#करना है, मतदान हमको#
Dushyant Kumar
।। आरती श्री सत्यनारायण जी की।।
।। आरती श्री सत्यनारायण जी की।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
भारत के बदनामी
भारत के बदनामी
Shekhar Chandra Mitra
मंज़र
मंज़र
अखिलेश 'अखिल'
हर शय¹ की अहमियत होती है अपनी-अपनी जगह
हर शय¹ की अहमियत होती है अपनी-अपनी जगह
_सुलेखा.
जय जगदम्बे जय माँ काली
जय जगदम्बे जय माँ काली
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
■ क़तआ (मुक्तक)
■ क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
मेरा तुझसे मिलना, मिलकर इतना यूं करीब आ जाना।
मेरा तुझसे मिलना, मिलकर इतना यूं करीब आ जाना।
AVINASH (Avi...) MEHRA
ज़िंदगी पर तो
ज़िंदगी पर तो
Dr fauzia Naseem shad
तारो की चमक ही चाँद की खूबसूरती बढ़ाती है,
तारो की चमक ही चाँद की खूबसूरती बढ़ाती है,
Ranjeet kumar patre
*एक (बाल कविता)*
*एक (बाल कविता)*
Ravi Prakash
कौन यहाँ खुश रहता सबकी एक कहानी।
कौन यहाँ खुश रहता सबकी एक कहानी।
Mahendra Narayan
न जाने कहा‌ँ दोस्तों की महफीले‌ं खो गई ।
न जाने कहा‌ँ दोस्तों की महफीले‌ं खो गई ।
Yogendra Chaturwedi
माँ दया तेरी जिस पर होती
माँ दया तेरी जिस पर होती
Basant Bhagawan Roy
💐प्रेम कौतुक-299💐
💐प्रेम कौतुक-299💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
इन्द्रिय जनित ज्ञान सब नश्वर, माया जनित सदा छलता है ।
इन्द्रिय जनित ज्ञान सब नश्वर, माया जनित सदा छलता है ।
लक्ष्मी सिंह
रेत पर मकान बना ही नही
रेत पर मकान बना ही नही
कवि दीपक बवेजा
श्री राम राज्याभिषेक
श्री राम राज्याभिषेक
नवीन जोशी 'नवल'
मन सोचता है...
मन सोचता है...
Harminder Kaur
कभी कभी किसी व्यक्ति(( इंसान))से इतना लगाव हो जाता है
कभी कभी किसी व्यक्ति(( इंसान))से इतना लगाव हो जाता है
Rituraj shivem verma
Suni padi thi , dil ki galiya
Suni padi thi , dil ki galiya
Sakshi Tripathi
Loading...