Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Feb 2024 · 1 min read

धमकी तुमने दे डाली

धमकी
—————————————-
क्या कसूर था उन मेहनती लोगों का
बस यही कि तुम्हारी नहीं सुनी,
तुम कोई राजनेता तो नहीं थे
धमकी तुमने दे डाली उनको
बोलो ! क्या मिला तुम्हें,
रात में भागने को मजबूर हो गए
वे मेहनती लोग ।
क्यों पता है तुम्हें ?
अपने बच्चों और पत्नी की
चिंता का सवाल जो था।

बार-बार सोचा उन लोगों ने
अपने अधीर हो उठे मन में
जमाना खराब है, साहब
हमें कुछ हो गया तो अपने
घर वालों का कौन सहारा ?

निश्चय अब कर लिया था
रात अंधेरे में भेष धर लिया था
काऊ को जवाब नहीं,
देना था उन्हे !
बस जल्दी निकल जाना था।
क्यों ?
सता रहा था डर यहीं कि
रोज-रोज की धमकी
बाबू, सही हो गई तो
क्या होगा ?

इरादा पक्का था,
अब चलो भईया अपने
गांव भाग चलें
न हम रहेंगे , यहां न सुनें
रोज रोज की धमकी।
बस,रात अंधेरे चल दिया
पता न चला किसी को
अचानक वे मेहनती लोग
कहां ? गायब हो गए।

1 Like · 57 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बादल को रास्ता भी दिखाती हैं हवाएँ
बादल को रास्ता भी दिखाती हैं हवाएँ
Mahendra Narayan
वाह टमाटर !!
वाह टमाटर !!
Ahtesham Ahmad
आप  की  मुख्तसिर  सी  मुहब्बत
आप की मुख्तसिर सी मुहब्बत
shabina. Naaz
सोना बोलो है कहाँ, बोला मुझसे चोर।
सोना बोलो है कहाँ, बोला मुझसे चोर।
आर.एस. 'प्रीतम'
मतदान
मतदान
Anil chobisa
दिल की दहलीज़ पर जब कदम पड़े तेरे ।
दिल की दहलीज़ पर जब कदम पड़े तेरे ।
Phool gufran
चन्द्रशेखर आज़ाद...
चन्द्रशेखर आज़ाद...
Kavita Chouhan
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
रिटायमेंट (शब्द चित्र)
रिटायमेंट (शब्द चित्र)
Suryakant Dwivedi
3-फ़क़त है सियासत हक़ीक़त नहीं है
3-फ़क़त है सियासत हक़ीक़त नहीं है
Ajay Kumar Vimal
जीवनमंथन
जीवनमंथन
Shyam Sundar Subramanian
#नैमिषारण्य_यात्रा
#नैमिषारण्य_यात्रा
Ravi Prakash
राम छोड़ ना कोई हमारे..
राम छोड़ ना कोई हमारे..
Vijay kumar Pandey
देखकर उन्हें देखते ही रह गए
देखकर उन्हें देखते ही रह गए
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
देश खोखला
देश खोखला
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
निकलती हैं तदबीरें
निकलती हैं तदबीरें
Dr fauzia Naseem shad
"ई-रिश्ते"
Dr. Kishan tandon kranti
पेड़ लगाओ पर्यावरण बचाओ
पेड़ लगाओ पर्यावरण बचाओ
Buddha Prakash
** मन में यादों की बारात है **
** मन में यादों की बारात है **
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
एक तूही ममतामई
एक तूही ममतामई
Basant Bhagawan Roy
*
*"मर्यादा पुरूषोत्तम श्री राम"*
Shashi kala vyas
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
हर शख्स माहिर है.
हर शख्स माहिर है.
Radhakishan R. Mundhra
यारों की आवारगी
यारों की आवारगी
The_dk_poetry
*और ऊपर उठती गयी.......मेरी माँ*
*और ऊपर उठती गयी.......मेरी माँ*
Poonam Matia
गुरु असीम ज्ञानों का दाता 🌷🙏
गुरु असीम ज्ञानों का दाता 🌷🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
इकिगाई प्रेम है ।❤️
इकिगाई प्रेम है ।❤️
Rohit yadav
अक्सर यूं कहते हैं लोग
अक्सर यूं कहते हैं लोग
Harminder Kaur
खेल संग सगवारी पिचकारी
खेल संग सगवारी पिचकारी
Ranjeet kumar patre
#मुक्तक
#मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...