Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Feb 2024 · 1 min read

धन की खातिर तन बिका, साथ बिका ईमान ।

धन की खातिर तन बिका, साथ बिका ईमान ।
दो रोटी के वास्ते, नाच रहा इंसान ।।

जनता को ही छल रहे, जनता के भगवान ।
नेता कुर्सी के लिए, बेच रहे ईमान ।।

सुशील सरना / 2-2-24

76 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
💐अज्ञात के प्रति-83💐
💐अज्ञात के प्रति-83💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हो जाऊं तेरी!
हो जाऊं तेरी!
Farzana Ismail
Kbhi kbhi lagta h ki log hmara fayda uthate hai.
Kbhi kbhi lagta h ki log hmara fayda uthate hai.
Sakshi Tripathi
फिर कभी तुमको बुलाऊं
फिर कभी तुमको बुलाऊं
Shivkumar Bilagrami
समय यात्रा संभावना -एक विचार
समय यात्रा संभावना -एक विचार
Shyam Sundar Subramanian
जीने की वजह हो तुम
जीने की वजह हो तुम
Surya Barman
कल तक जो थे हमारे, अब हो गए विचारे।
कल तक जो थे हमारे, अब हो गए विचारे।
सत्य कुमार प्रेमी
ऐसे न देख पगली प्यार हो जायेगा ..
ऐसे न देख पगली प्यार हो जायेगा ..
Yash mehra
भोली बिटिया
भोली बिटिया
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
"किताब और कलम"
Dr. Kishan tandon kranti
#लघुकविता
#लघुकविता
*Author प्रणय प्रभात*
गुरु बिन गति मिलती नहीं
गुरु बिन गति मिलती नहीं
अभिनव अदम्य
*अलविदा तेईस*
*अलविदा तेईस*
Shashi kala vyas
सच ही सच
सच ही सच
Neeraj Agarwal
संघर्षों के राहों में हम
संघर्षों के राहों में हम
कवि दीपक बवेजा
होके रहेगा इंक़लाब
होके रहेगा इंक़लाब
Shekhar Chandra Mitra
The flames of your love persist.
The flames of your love persist.
Manisha Manjari
मैं जो कुछ हूँ, वही कुछ हूँ,जो जाहिर है, वो बातिल है
मैं जो कुछ हूँ, वही कुछ हूँ,जो जाहिर है, वो बातिल है
पूर्वार्थ
*भरोसा हो तो*
*भरोसा हो तो*
नेताम आर सी
प्यार का उपहार तुमको मिल गया है।
प्यार का उपहार तुमको मिल गया है।
surenderpal vaidya
रह जाता सब कुछ धरा ,मरने के फिर बाद(कुंडलिया)*
रह जाता सब कुछ धरा ,मरने के फिर बाद(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
चचा बैठे ट्रेन में [ व्यंग्य ]
चचा बैठे ट्रेन में [ व्यंग्य ]
कवि रमेशराज
गौरवशाली भारत
गौरवशाली भारत
Shaily
महादेवी वर्मा जी की पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि
महादेवी वर्मा जी की पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि
Harminder Kaur
2532.पूर्णिका
2532.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
छत्तीसगढ़ रत्न (जीवनी पुस्तक)
छत्तीसगढ़ रत्न (जीवनी पुस्तक)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आजकल की औरते क्या क्या गजब ढा रही (हास्य व्यंग)
आजकल की औरते क्या क्या गजब ढा रही (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
हल्की हल्की सी हंसी ,साफ इशारा भी नहीं!
हल्की हल्की सी हंसी ,साफ इशारा भी नहीं!
Vishal babu (vishu)
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जयंती विशेष : अंबेडकर जयंती
जयंती विशेष : अंबेडकर जयंती
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
Loading...