Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jan 2024 · 1 min read

* धन्य अयोध्याधाम है *

** गीत **
~~
भारत की यह धरा धन्य है, धन्य अयोध्याधाम हैं।
खूब दिवाली सभी मनाओ, आए प्रभु श्रीराम हैं।

छोटे छोटे शर तरकश में, धनुष लिए कर में सुन्दर।
अस्त्र शस्त्र सब छोटे छोटे, बाल रूप अति है सुखकर।
सबके प्यारे और सहारे, माता कौशल्या जिनकी।
अपने भक्तों के हितकारी, रहते आठों याम हैं।

खूब खेलते बाल सखा सब, अवधपुरी की गलियों में।
वीर वेश सबके मन भाए, रच बस जाता अखियों में।
रामलला के दर्शन पाकर, धन्य हुआ करता जीवन।
और सहजता से बन जाते, जग के सारे काम हैं।

था आक्रांताओं ने लूटा, भारत के हर मन्दिर को।
और किया महिमा का खण्डन, भंग किया पावनता को।
भीषण संघर्षों में हमने, हार नहीं मानी अरि से।
तभी विजय श्री तक पहुंचा यह, बहुत सुखद परिणाम है।

भव्य बना है मन्दिर देखो, लौटा है वैभव इसका।
अखिल विश्व में कहीं नहीं है, कोई भी सानी जिसका।
प्राण प्रतिष्ठा का शुभ अवसर, पूरी दुनिया देख रही।
शुभ्र सनातन धर्म ध्वजा यह, फहर रही अविराम है।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
-सुरेन्द्रपाल वैद्य

1 Like · 1 Comment · 113 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
कटघरे में कौन?
कटघरे में कौन?
Dr. Kishan tandon kranti
"Always and Forever."
Manisha Manjari
■ क़तआ (मुक्तक)
■ क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
Ek ladki udas hoti hai
Ek ladki udas hoti hai
Sakshi Tripathi
बड़ी ही शुभ घड़ी आयी, अवध के भाग जागे हैं।
बड़ी ही शुभ घड़ी आयी, अवध के भाग जागे हैं।
डॉ.सीमा अग्रवाल
I am not born,
I am not born,
Ankita Patel
ईश्वर की कृपा दृष्टि व बड़े बुजुर्ग के आशीर्वाद स्वजनों की द
ईश्वर की कृपा दृष्टि व बड़े बुजुर्ग के आशीर्वाद स्वजनों की द
Shashi kala vyas
वृक्ष पुकार
वृक्ष पुकार
संजय कुमार संजू
एडमिन क हाथ मे हमर सांस क डोरि अटकल अछि  ...फेर सेंसर ..
एडमिन क हाथ मे हमर सांस क डोरि अटकल अछि ...फेर सेंसर .."पद्
DrLakshman Jha Parimal
इस दरिया के पानी में जब मिला,
इस दरिया के पानी में जब मिला,
Sahil Ahmad
गरीब की आरजू
गरीब की आरजू
Neeraj Agarwal
हर चाह..एक आह बनी
हर चाह..एक आह बनी
Priya princess panwar
हो हमारी या तुम्हारी चल रही है जिंदगी।
हो हमारी या तुम्हारी चल रही है जिंदगी।
सत्य कुमार प्रेमी
मईया का ध्यान लगा
मईया का ध्यान लगा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
आज के रिश्ते: ए
आज के रिश्ते: ए
पूर्वार्थ
हिन्दी दोहे- इतिहास
हिन्दी दोहे- इतिहास
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
गीता मर्मज्ञ श्री दीनानाथ दिनेश जी
गीता मर्मज्ञ श्री दीनानाथ दिनेश जी
Ravi Prakash
World Book Day
World Book Day
Tushar Jagawat
जो गुजर रही हैं दिल पर मेरे उसे जुबान पर ला कर क्या करू
जो गुजर रही हैं दिल पर मेरे उसे जुबान पर ला कर क्या करू
Rituraj shivem verma
बे-आवाज़. . . .
बे-आवाज़. . . .
sushil sarna
तेरी हर ख़ुशी पहले, मेरे गम उसके बाद रहे,
तेरी हर ख़ुशी पहले, मेरे गम उसके बाद रहे,
डी. के. निवातिया
टिमटिमाता समूह
टिमटिमाता समूह
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
धूल
धूल
नन्दलाल सुथार "राही"
डॉ अरुण कुमार शास्त्री - एक अबोध बालक
डॉ अरुण कुमार शास्त्री - एक अबोध बालक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
महिलाएं जितना तेजी से रो सकती है उतना ही तेजी से अपने भावनाओ
महिलाएं जितना तेजी से रो सकती है उतना ही तेजी से अपने भावनाओ
Rj Anand Prajapati
जीवन को जीतती हैं
जीवन को जीतती हैं
Dr fauzia Naseem shad
सरस्वती वंदना-3
सरस्वती वंदना-3
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Rap song 【5】
Rap song 【5】
Nishant prakhar
आँखे नम हो जाती माँ,
आँखे नम हो जाती माँ,
Sushil Pandey
2438.पूर्णिका
2438.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Loading...