Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Dec 2023 · 2 min read

धनवान -: माँ और मिट्टी

माँ और इस मिट्टी का कर्ज
हम पर सदा उधार रहेगा ।

माँ और मिट्टी सदा महान रहेंगी
ये संसार जब तक रहेगा ।।

ये मिट्टी अपने सीने पर अन्न उगाकर
हमें माँ के जैसे पालती है ।
अपने सीने पर पीड़ा सहकर
हमारे तन की भूख मिटाकर ,
हमें माँ के जैसे संभालती है ।।

बारिश,आँधी और तुफ़ान सब को वो सहती है
इसलिए ये दुनिया धरती को माँ कहतीं हैं ।

अपने सीने पर लहराती फसलें ,
देखकर धरती माँ खुश हो जाती हैं ।।

ये धरती माँ हमारी हर जरूरत को ,
माँ बनकर पूरी करती है ।

हम सब के जीवन पर धरती माँ
यूं ही प्यार बरसता रहेगा ।।

माँ और इस मिट्टी का कर्ज
हम पर सदा उधार रहेगा ।

माँ और मिट्टी सदा महान रहेंगी
ये संसार जब तक रहेगा ।।

इस दुनिया में माँ के जैसा महान कोई और नहीं ।
इस दुनिया में माँ के प्यार जैसी मजबूत कोई डोर नहीं ।।

माँ , तेरे हवाले मेरे जीवन का हर पल ।
अपने दिल में जो भी इन्सान ,
माँ के प्यार की ज्योत जगाले तु ।।

उसके जीवन की नौका पार हो जाएगी ।
उसके घर में खुशियों की बहार रहेगी ।।

गैरों के आगे झुकने से अच्छा है की ।
तु माँ के चरणों में झुक जाएं ।।

इसके चरणों में झुकने से ।
जीवन के सब दुख -दर्द पल में लुक जाएं ।।

तुम अपनी आँखें चाहे लाख बंद कर लो ।
तुम्हारे लिए माँ के दिल का द्वार सदा खुला रहेगा ।।

माँ और इस मिट्टी का कर्ज ।
हम पर सदा उधार रहेगा ।।

माँ और मिट्टी सदा महान रहेंगी ।
ये संसार जब तक रहेगा ।।

हमारे जीवन पर माँ और मिट्टी , दोनों का उपकार बहुत है ।
हम सबको माँ और मिट्टी , दोनों के आँचल में प्यार बहुत मिलता है ।।

दोनों हैं ” धनवान ” बहुत ।
व दोनो हैं महान बहुत है ।।

माँ और मिट्टी का हम सबके जीवन पर सदा ऋण रहेगा ।जीवन में ना हो कोई ऐसा दिन इनके बिन जो रहेगा ।।

इनका प्यारा मुख देखकर दिल खुश हो जाता है ।
इनका आँचल में सुख देखकर मन मनमोहक हो जाता है ।।

माँ और मिट्टी का रिश्ता अमर रहेगा ।
हम पर माँ और इस मिट्टी का कर्ज सदा उधार रहेगा ।।

माँ और मिट्टी सदा महान रहेंगी ।
ये संसार जब तक रहेगा ।।

175 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जीवात्मा
जीवात्मा
Mahendra singh kiroula
चल फिर इक बार मिलें हम तुम पहली बार की तरह।
चल फिर इक बार मिलें हम तुम पहली बार की तरह।
Neelam Sharma
नाथ मुझे अपनाइए,तुम ही प्राण आधार
नाथ मुझे अपनाइए,तुम ही प्राण आधार
कृष्णकांत गुर्जर
लग जाए गले से गले
लग जाए गले से गले
Ankita Patel
--पागल खाना ?--
--पागल खाना ?--
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
वक्त के आगे
वक्त के आगे
Sangeeta Beniwal
अपना कोई वजूद हो, तो बताना मेरे दोस्त।
अपना कोई वजूद हो, तो बताना मेरे दोस्त।
Sanjay ' शून्य'
दर्पण जब भी देखती खो जाती हूँ मैं।
दर्पण जब भी देखती खो जाती हूँ मैं।
लक्ष्मी सिंह
11कथा राम भगवान की, सुनो लगाकर ध्यान
11कथा राम भगवान की, सुनो लगाकर ध्यान
Dr Archana Gupta
राजाराम मोहन राॅय
राजाराम मोहन राॅय
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कमियाॅं अपनों में नहीं
कमियाॅं अपनों में नहीं
Harminder Kaur
चंद फूलों की खुशबू से कुछ नहीं होता
चंद फूलों की खुशबू से कुछ नहीं होता
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कुंडलिया
कुंडलिया
गुमनाम 'बाबा'
3119.*पूर्णिका*
3119.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
" कू कू "
Dr Meenu Poonia
66
66
*Author प्रणय प्रभात*
My Expressions
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
बँटवारे का दर्द
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
धर्मी जब खुल कर नंगे होते हैं।
धर्मी जब खुल कर नंगे होते हैं।
Dr MusafiR BaithA
पुस्तक
पुस्तक
जगदीश लववंशी
तेरी याद ......
तेरी याद ......
sushil yadav
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
फ़ना
फ़ना
Atul "Krishn"
मेरी भैंस को डण्डा क्यों मारा
मेरी भैंस को डण्डा क्यों मारा
gurudeenverma198
जीत से बातचीत
जीत से बातचीत
Sandeep Pande
मंज़िल का पता है न ज़माने की खबर है।
मंज़िल का पता है न ज़माने की खबर है।
Phool gufran
गर्मी
गर्मी
Ranjeet kumar patre
एस. पी.
एस. पी.
Dr. Pradeep Kumar Sharma
भारत
भारत
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
*गर्मी देती नहीं दिखाई【बाल कविता-गीतिका】*
*गर्मी देती नहीं दिखाई【बाल कविता-गीतिका】*
Ravi Prakash
Loading...