Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Nov 2023 · 1 min read

धनतेरस के अवसर पर ,

धनतेरस के अवसर पर ,
दुकानदार सोना बेचकर खुश होता है ,
तो ग्राहक सोना खरीद कर ।
समझ नही आता की धनतेरस,
सोना बेचने वाले के लिए शुभ है,
या खरीदने वाले के लिए।
…..✍️ योगेन्द्र चतुर्वेदी

148 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*राम भक्ति नवधा बतलाते (कुछ चौपाइयॉं)*
*राम भक्ति नवधा बतलाते (कुछ चौपाइयॉं)*
Ravi Prakash
मुरली कि धुन
मुरली कि धुन
Anil chobisa
साझ
साझ
Bodhisatva kastooriya
ताशीर
ताशीर
Sanjay ' शून्य'
रखो शीशे की तरह दिल साफ़….ताकी
रखो शीशे की तरह दिल साफ़….ताकी
shabina. Naaz
जिन्दगी सदैव खुली किताब की तरह रखें, जिसमें भावनाएं संवेदनशी
जिन्दगी सदैव खुली किताब की तरह रखें, जिसमें भावनाएं संवेदनशी
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
ऐ वतन
ऐ वतन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मौत से लड़ती जिंदगी..✍️🤔💯🌾🌷🌿
मौत से लड़ती जिंदगी..✍️🤔💯🌾🌷🌿
Ms.Ankit Halke jha
बिन बोले ही हो गई, मन  से  मन  की  बात ।
बिन बोले ही हो गई, मन से मन की बात ।
sushil sarna
"Awakening by the Seashore"
Manisha Manjari
सनातन
सनातन
देवेंद्र प्रताप वर्मा 'विनीत'
जब मैं मंदिर गया,
जब मैं मंदिर गया,
नेताम आर सी
स्वर्णिम दौर
स्वर्णिम दौर
Dr. Kishan tandon kranti
क्या विरासत में
क्या विरासत में
Dr fauzia Naseem shad
"हवा भरे ग़ुब्बारों"
*Author प्रणय प्रभात*
यही जीवन है ।
यही जीवन है ।
Rohit yadav
आँखों में ख्व़ाब होना , होता बुरा नहीं।।
आँखों में ख्व़ाब होना , होता बुरा नहीं।।
Godambari Negi
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दीपावली की असीम शुभकामनाओं सहित अर्ज किया है ------
दीपावली की असीम शुभकामनाओं सहित अर्ज किया है ------
सिद्धार्थ गोरखपुरी
भावक की नीयत भी किसी रचना को छोटी बड़ी तो करती ही है, कविता
भावक की नीयत भी किसी रचना को छोटी बड़ी तो करती ही है, कविता
Dr MusafiR BaithA
माॅं लाख मनाए खैर मगर, बकरे को बचा न पाती है।
माॅं लाख मनाए खैर मगर, बकरे को बचा न पाती है।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
When the destination,
When the destination,
Dhriti Mishra
I've learned the best way to end something is to let it star
I've learned the best way to end something is to let it star
पूर्वार्थ
*मूर्तिकार के अमूर्त भाव जब,
*मूर्तिकार के अमूर्त भाव जब,
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
गाय
गाय
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दीप की अभिलाषा।
दीप की अभिलाषा।
Kuldeep mishra (KD)
फ़ेहरिस्त रक़ीबों की, लिखे रहते हो हाथों में,
फ़ेहरिस्त रक़ीबों की, लिखे रहते हो हाथों में,
Shreedhar
सफर में हमसफ़र
सफर में हमसफ़र
Atul "Krishn"
देखिए खूबसूरत हुई भोर है।
देखिए खूबसूरत हुई भोर है।
surenderpal vaidya
नव कोंपलें स्फुटित हुई, पतझड़ के पश्चात
नव कोंपलें स्फुटित हुई, पतझड़ के पश्चात
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...