Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 May 2018 · 1 min read

दौलत-ए-बचपन

दौलत-ए-बचपन………✍️
सुनों, बेहिसाब सी गलतियाँ होती हैं बचपन की बेशुमार दौलत।
देतीं हैं सबक भी अनेकोंबार और संग सुधरने की हज़ार मौहलत।
बचपन की दौलत होतीं हैं, दादी-नानी की कहानियाँ।
जो याद रह जातीं हैं बिन याद किए,सभी को मुहज़बनियाँ।
माँ-पापा से मिले छोटे-बड़े खिलौने भी होते हैं अमोल खज़ाना।
दीदी-भैया की रोका-टोकी और गुड्डे-गुड़िया का ब्याह रचाना।
बचपन में तो दौलत किताबों से बाहर ही है होती।
बस मन मस्तिष्क में, कुछ उथल पुथल करने की चिकल्लस है होती।
चटपटी सी खुशियां बचपन खट्टी मीठी चूरन की गोली।
एक पल में तोड़ दोस्ती कट्टा-अब्बा, तो दूजे पल में हँसी ठिठोली।
बचपन ज़िम्मेदारी मुक्त कंधे
अनकही शरारतों के उलझे फंदे।
बचपन कभी होता था स्वछंद, गिट्टे, कंचे,कोकिला छिपाकि और गिल्ली डंडा।
बंद कमरों में कैद हुआ बचपन, चार पर्ची, पिठु गर्म और पोशम पा पड़ा ठंडा।
बचपन था कभी लूडो-साँप सीढ़ी का मज़ा तो कभी कैरम।
बचपन बंधा हुआ चारदीवारी सीमित,है बना मशीनी उपकरण।
बचपन हुआ करता था कभी, स्वतंत्र वातावरण-परिवेश का साज़।
बचपन हुआ अब घर में भी, प्रदूषण मास्क का मोहताज।
हुआ करते थे कभी पडौसी मामा, चाचा, ताऊ था बचपन खुशकिस्मत।
बेख़बर है ‘नीलम’ नामी रिश्तों से, क्योंकि सगे रिश्ते भी लूटते हैं आज अस्मत।

नीलम शर्मा ———✍️

Language: Hindi
1 Like · 570 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ख़ुद की हस्ती मिटा कर ,
ख़ुद की हस्ती मिटा कर ,
ओसमणी साहू 'ओश'
चिंतन करत मन भाग्य का
चिंतन करत मन भाग्य का
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
सीमा पार
सीमा पार
Dr. Kishan tandon kranti
स्वाभिमानी किसान
स्वाभिमानी किसान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मैं खुद से कर सकूं इंसाफ
मैं खुद से कर सकूं इंसाफ
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
3509.🌷 *पूर्णिका* 🌷
3509.🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
चिंटू चला बाज़ार | बाल कविता
चिंटू चला बाज़ार | बाल कविता
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
■ सोचो, विचारो और फिर निष्कर्ष निकालो। हो सकता है अपनी मूर्ख
■ सोचो, विचारो और फिर निष्कर्ष निकालो। हो सकता है अपनी मूर्ख
*प्रणय प्रभात*
विश्वास
विश्वास
शालिनी राय 'डिम्पल'✍️
चलो कल चाय पर मुलाक़ात कर लेंगे,
चलो कल चाय पर मुलाक़ात कर लेंगे,
गुप्तरत्न
अदम्य जिजीविषा के धनी श्री राम लाल अरोड़ा जी
अदम्य जिजीविषा के धनी श्री राम लाल अरोड़ा जी
Ravi Prakash
संत गोस्वामी तुलसीदास
संत गोस्वामी तुलसीदास
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
वर्षा ऋतु के बाद
वर्षा ऋतु के बाद
लक्ष्मी सिंह
अपना सफ़र है
अपना सफ़र है
Surinder blackpen
अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस :इंस्पायर इंक्लूजन
अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस :इंस्पायर इंक्लूजन
Dr.Rashmi Mishra
नवरात्रि का छठा दिन मां दुर्गा की छठी शक्ति मां कात्यायनी को
नवरात्रि का छठा दिन मां दुर्गा की छठी शक्ति मां कात्यायनी को
Shashi kala vyas
ग़ज़ल (तुमने जो मिलना छोड़ दिया...)
ग़ज़ल (तुमने जो मिलना छोड़ दिया...)
डॉक्टर रागिनी
नहीं-नहीं प्रिये
नहीं-नहीं प्रिये
Pratibha Pandey
मैं फकीर ही सही हूं
मैं फकीर ही सही हूं
Umender kumar
नववर्ष
नववर्ष
Mukesh Kumar Sonkar
एक किताब खोलो
एक किताब खोलो
Dheerja Sharma
नारी अस्मिता
नारी अस्मिता
Shyam Sundar Subramanian
उस रात रंगीन सितारों ने घेर लिया था मुझे,
उस रात रंगीन सितारों ने घेर लिया था मुझे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
वेला
वेला
Sangeeta Beniwal
ज़रूरत के तकाज़ो पर
ज़रूरत के तकाज़ो पर
Dr fauzia Naseem shad
ज़िंदगी से शिकायतें बंद कर दो
ज़िंदगी से शिकायतें बंद कर दो
Sonam Puneet Dubey
....ऐ जिंदगी तुझे .....
....ऐ जिंदगी तुझे .....
Naushaba Suriya
कविता
कविता
Rambali Mishra
जिस चीज में दिल ना लगे,
जिस चीज में दिल ना लगे,
Sunil Maheshwari
"गमलों में पौधे लगाते हैं,पेड़ नहीं".…. पौधों को हमेशा अतिरि
पूर्वार्थ
Loading...