Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jul 2023 · 1 min read

दौर कागजी था पर देर तक खतों में जज्बात महफूज रहते थे, आज उम्

दौर कागजी था पर देर तक खतों में जज्बात महफूज रहते थे, आज उम्रभर की यादें भी एक उंगली से डिलीट हो जाती है।

3 Likes · 248 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
केतकी का अंश
केतकी का अंश
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
अपना नैनीताल...
अपना नैनीताल...
डॉ.सीमा अग्रवाल
■ मिसाल अटारी-वाघा बॉर्डर दे ही चुका है। रोज़ की तरह आज भी।।
■ मिसाल अटारी-वाघा बॉर्डर दे ही चुका है। रोज़ की तरह आज भी।।
*Author प्रणय प्रभात*
विश्व पुस्तक दिवस पर
विश्व पुस्तक दिवस पर
Mohan Pandey
मेरी औकात
मेरी औकात
साहित्य गौरव
दुविधा
दुविधा
Shyam Sundar Subramanian
सब कुछ हो जब पाने को,
सब कुछ हो जब पाने को,
manjula chauhan
भटक ना जाना मेरे दोस्त
भटक ना जाना मेरे दोस्त
Mangilal 713
हे राम तुम्हारा अभिनंदन।
हे राम तुम्हारा अभिनंदन।
सत्य कुमार प्रेमी
क्षितिज के उस पार
क्षितिज के उस पार
Suryakant Dwivedi
आह और वाह
आह और वाह
ओनिका सेतिया 'अनु '
इंसानियत
इंसानियत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
नारी तेरे रूप अनेक
नारी तेरे रूप अनेक
विजय कुमार अग्रवाल
"बेहतर"
Dr. Kishan tandon kranti
दिल ए तकलीफ़
दिल ए तकलीफ़
Dr fauzia Naseem shad
#कुछ खामियां
#कुछ खामियां
Amulyaa Ratan
लक्ष्य
लक्ष्य
Mukta Rashmi
आश्रित.......
आश्रित.......
Naushaba Suriya
जीवन और बांसुरी दोनों में होल है पर धुन पैदा कर सकते हैं कौन
जीवन और बांसुरी दोनों में होल है पर धुन पैदा कर सकते हैं कौन
Shashi kala vyas
जीवन से पहले या जीवन के बाद
जीवन से पहले या जीवन के बाद
Mamta Singh Devaa
पागल मन कहां सुख पाय ?
पागल मन कहां सुख पाय ?
goutam shaw
जब मैं लिखता हूँ
जब मैं लिखता हूँ
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
वो पहली पहली मेरी रात थी
वो पहली पहली मेरी रात थी
Ram Krishan Rastogi
2504.पूर्णिका
2504.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
संवेदना
संवेदना
नेताम आर सी
तस्वीर!
तस्वीर!
कविता झा ‘गीत’
डॉ निशंक बहुआयामी व्यक्तित्व शोध लेख
डॉ निशंक बहुआयामी व्यक्तित्व शोध लेख
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
प्रेमचंद ने ’जीवन में घृणा का महत्व’ लिखकर बताया कि क्यों हम
प्रेमचंद ने ’जीवन में घृणा का महत्व’ लिखकर बताया कि क्यों हम
Dr MusafiR BaithA
”ज़िन्दगी छोटी नहीं होती
”ज़िन्दगी छोटी नहीं होती
शेखर सिंह
23, मायके की याद
23, मायके की याद
Dr Shweta sood
Loading...