Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Apr 2023 · 1 min read

दो शे’र ( अशआर)

हिचकियों का मिरी ऐतबार नहीं करते ।
क्या सचमुच वो मुझसे प्यार नहीं करते ।।

जलते रहते हैं…. अपनी अना में हरदम ।
लेकिन इश्क़ का अपने इज़हार नहीं करते ।।

© डॉ वासिफ काज़ी इंदौर
© काज़ी की कलम

Language: Hindi
Tag: शेर
1 Like · 296 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
लड़कियों को विजेता इसलिए घोषित कर देना क्योंकि वह बहुत खूबसू
लड़कियों को विजेता इसलिए घोषित कर देना क्योंकि वह बहुत खूबसू
Rj Anand Prajapati
पूर्ण विराग
पूर्ण विराग
लक्ष्मी सिंह
*उठा जो देह में जादू, समझ लो आई होली है (मुक्तक)*
*उठा जो देह में जादू, समझ लो आई होली है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
उम्र अपना निशान
उम्र अपना निशान
Dr fauzia Naseem shad
National Cancer Day
National Cancer Day
Tushar Jagawat
...,,,,
...,,,,
शेखर सिंह
गंवारा ना होगा हमें।
गंवारा ना होगा हमें।
Taj Mohammad
जानबूझकर कभी जहर खाया नहीं जाता
जानबूझकर कभी जहर खाया नहीं जाता
सौरभ पाण्डेय
बुलेटप्रूफ गाड़ी
बुलेटप्रूफ गाड़ी
Shivkumar Bilagrami
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – आविर्भाव का समय – 02
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – आविर्भाव का समय – 02
Kirti Aphale
"सोचिए जरा"
Dr. Kishan tandon kranti
बहुजन विमर्श
बहुजन विमर्श
Shekhar Chandra Mitra
तेरी मेरी तस्वीर
तेरी मेरी तस्वीर
Neeraj Agarwal
पुरखों की याद🙏🙏
पुरखों की याद🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
लोगों को सफलता मिलने पर खुशी मनाना जितना महत्वपूर्ण लगता है,
लोगों को सफलता मिलने पर खुशी मनाना जितना महत्वपूर्ण लगता है,
Paras Nath Jha
Yado par kbhi kaha pahra hota h.
Yado par kbhi kaha pahra hota h.
Sakshi Tripathi
दोहा मुक्तक
दोहा मुक्तक
sushil sarna
अग्नि परीक्षा सहने की एक सीमा थी
अग्नि परीक्षा सहने की एक सीमा थी
Shweta Soni
तुकबन्दी,
तुकबन्दी,
Satish Srijan
हरि लापता है, ख़ुदा लापता है
हरि लापता है, ख़ुदा लापता है
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
खुल जाता है सुबह उठते ही इसका पिटारा...
खुल जाता है सुबह उठते ही इसका पिटारा...
shabina. Naaz
रहस्य-दर्शन
रहस्य-दर्शन
Mahender Singh
काश ! ! !
काश ! ! !
Shaily
बस इतनी सी बात समंदर को खल गई
बस इतनी सी बात समंदर को खल गई
Prof Neelam Sangwan
क्रिकेटफैन फैमिली
क्रिकेटफैन फैमिली
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कठिन परीक्षा
कठिन परीक्षा
surenderpal vaidya
फागुन की अंगड़ाई
फागुन की अंगड़ाई
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
عيشُ عشرت کے مکاں
عيشُ عشرت کے مکاں
अरशद रसूल बदायूंनी
■ आज की बात...
■ आज की बात...
*Author प्रणय प्रभात*
सम्राट कृष्णदेव राय
सम्राट कृष्णदेव राय
Ajay Shekhavat
Loading...