Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#3 Trending Author
Sep 9, 2021 · 2 min read

दो शरारती गुड़िया

दो शरारती गुड़िया-(बाल कविता)
=====================
है हमारी दो प्यारी-प्यारी गुड़िया।
बहुत शरारती है ये दोनों गुड़िया।।
बड़ी गुड़िया वागीशा याने किक्कू।
छोटी गुड़िया नियती याने निक्कू।।
इनकी मेमोरी शक्ति गजब तेज है।
दोनों की श्रवण शक्ति बड़ी तेज है।।
इंदौर जन्मभूमि है दोनों गुड़िया की।
स्वर्णलता मम्मी है दोनों गुड़िया की।।
दोनों सुबह उठती गुड मॉर्निंग कहती।
फिर ये दोनों नित्य कार्य किया करती।।
मम्मी बुलाती, दोनों को स्नान कराती।
इने तैयार करती, चाय-नाश्ता कराती।।
सारे दिन घर में,ये दोनों खेला करती।
ये अजीब-अजीब खेल खेला करती।।
दोनों गुड़िया खेल-खेल में लड़ पड़ती।
फिर दोनों एक हो जाती, हंस पड़ती।।
दोनों गुड़िया कोई बात नहीं भूलती।
नकल उतारना, ये दोनों नहीं चूकती।।
ये कितनी प्यारी-प्यारी बातें करती।
ये दोनों सबके मन बहलाया करती।।
पर दोनों शरारत करना नहीं भूलती।
दोनों मम्मी-पापा की भी नहीं सुनती।।
पर इनकी शरारतें- मन को मोह लेती।
मोबाइल / टीवी ! खुद ही चला लेती।।
ये कार्टून /पोयम देखना पसंद करती।
ये बड़ों की पसंद की परवाह न करती।।
दादा-दादी भी मन मार कर रह जाते।
अपना धार्मिक चैनल नहीं देख पाते।।
यहीं हाल नाना-नानी का भी होता है।
जब गुड़ियों का उज्जैन आना होता है।।
नाना-नानी भी अपना चैनल न देखते।
इनके साथ में कार्टून/पोयम ही देखते।।
मौसी-मामा गुड़ियों को परेशान करते।
पर ये दोनों उल्टे सवाल-जवाब करते।।
दोनों गुड़ियों से बातों में जीत न पाते।
इनके मामा और मौसी भी हार जाते।।
परिवार में इनसे कोई नहीं जीत पाते।
इनकी शरारतें, बातों का आनंद उठाते।।
कितनी चंचल-निर्मल-कोमल है ये दोनों।
दो सुन्दर प्यारी-प्यारी कलियां है ये दोनों।।
ईश्वर भी हार जाते है ऐसे बच्चों के आगे।
सभी झुक जाते है- इनकी जिद के आगे।।
*********************************
*रचयिता: प्रभु दयाल रानीवाल*==
====*उज्जैन*{मध्यप्रदेश}*====
*********************************

2 Likes · 2 Comments · 1230 Views
You may also like:
जावेद कक्षा छः का छात्र कला के बल पर कई...
Shankar J aanjna
उफ ! ये गर्मी, हाय ! गर्मी / (गर्मी का...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दिले यार ना मिलते हैं।
Taj Mohammad
दिल मुझसे लगाकर,औरों से लगाया न करो
Ram Krishan Rastogi
कवि की नज़र से - पानी
बिमल
हर ख़्वाब झूठा है।
Taj Mohammad
एक बात... पापा, करप्शन.. लेना
Nitu Sah
फिक्र ना है किसी में।
Taj Mohammad
अनोखी सीख
DESH RAJ
अग्निवीर
पाण्डेय चिदानन्द
प्रेम दो दिल की धड़कन है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कुछ ऐसे बिखरना चाहती हूँ।
Saraswati Bajpai
कविता में मुहावरे
Ram Krishan Rastogi
" इच्छापूर्ति अक्टूबर "
Dr Meenu Poonia
बनकर कोयल काग
Jatashankar Prajapati
वर्तमान से वक्त बचा लो तुम निज के निर्माण में...
AJAY AMITABH SUMAN
भारत की जाति व्यवस्था
AMRESH KUMAR VERMA
गाँव कुछ बीमार सा अब लग रहा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
राम नाम ही परम सत्य है।
Anamika Singh
नहीं चाहता
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जो आया है इस जग में वह जाएगा।
Anamika Singh
कबीर के राम
Shekhar Chandra Mitra
धुँध
Rekha Drolia
खोकर के अपनो का विश्वास...। (भाग -1)
Buddha Prakash
*ध्यान में निराकार को पाना (भक्ति गीत)*
Ravi Prakash
श्रम पिता का समाया
शेख़ जाफ़र खान
.✍️वो थे इसीलिये हम है...✍️
"अशांत" शेखर
अब कहां कोई।
Taj Mohammad
राम ! तुम घट-घट वासी
Saraswati Bajpai
रूसवा है मुझसे जिंदगी
VINOD KUMAR CHAUHAN
Loading...