Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Apr 2017 · 1 min read

दो कुण्डलिनी छंद

दो कुण्डलिनी छंद
1-
कितनी छोटी हो गयी, है मानव की सोच,
आगे बढ़ने के लिए, रहा स्वयं को नोच।
रहा स्वयं को नोच, बढ़ी लालच है इतनी,
और-और का फेर, दुखी दुनिया है कितनी।।
2-
आदत जिनकी हो गयी, लेकर खाना कर्ज,
कामचोर हैं हो गये, भूल गये हैं फर्ज।
भूल गये हैं फर्ज, नहीं पाते वे राहत,
बस लेना ही कर्ज, हुई है जिनकी आदत।।

– आकाश महेशपुरी

Language: Hindi
689 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शीर्षक – वेदना फूलों की
शीर्षक – वेदना फूलों की
Sonam Puneet Dubey
तुम कहते हो राम काल्पनिक है
तुम कहते हो राम काल्पनिक है
Harinarayan Tanha
एक उम्र
एक उम्र
Rajeev Dutta
*कैसे हार मान लूं
*कैसे हार मान लूं
Suryakant Dwivedi
प्रकृति के आगे विज्ञान फेल
प्रकृति के आगे विज्ञान फेल
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
वक्त
वक्त
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
***
***
sushil sarna
वो भी तन्हा रहता है
वो भी तन्हा रहता है
'अशांत' शेखर
लोग तो मुझे अच्छे दिनों का राजा कहते हैं,
लोग तो मुझे अच्छे दिनों का राजा कहते हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
देश से दौलत व शुहरत देश से हर शान है।
देश से दौलत व शुहरत देश से हर शान है।
सत्य कुमार प्रेमी
*रखिए जीवन में सदा, सबसे सद्व्यवहार (कुंडलिया)*
*रखिए जीवन में सदा, सबसे सद्व्यवहार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मंजिलें
मंजिलें
Santosh Shrivastava
■मंज़रकशी :--
■मंज़रकशी :--
*प्रणय प्रभात*
"किस बात का गुमान"
Ekta chitrangini
आज जो कल ना रहेगा
आज जो कल ना रहेगा
Ramswaroop Dinkar
"मैं पूछता हूँ"
Dr. Kishan tandon kranti
चंद एहसासात
चंद एहसासात
Shyam Sundar Subramanian
सारे निशां मिटा देते हैं।
सारे निशां मिटा देते हैं।
Taj Mohammad
फितरत आपकी जैसी भी हो
फितरत आपकी जैसी भी हो
Arjun Bhaskar
लोग चाहे इश्क़ को दें नाम कोई
लोग चाहे इश्क़ को दें नाम कोई
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पाने की आशा करना यह एक बात है
पाने की आशा करना यह एक बात है
Ragini Kumari
मानता हूँ हम लड़े थे कभी
मानता हूँ हम लड़े थे कभी
gurudeenverma198
मेरी सोच मेरे तू l
मेरी सोच मेरे तू l
सेजल गोस्वामी
कड़वा बोलने वालो से सहद नहीं बिकता
कड़वा बोलने वालो से सहद नहीं बिकता
Ranjeet kumar patre
नदियां
नदियां
manjula chauhan
देखने का नजरिया
देखने का नजरिया
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
जय मातु! ब्रह्मचारिणी,
जय मातु! ब्रह्मचारिणी,
Neelam Sharma
नहीं लगता..
नहीं लगता..
Rekha Drolia
अगर न बने नये रिश्ते ,
अगर न बने नये रिश्ते ,
शेखर सिंह
Loading...