Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Mar 27, 2019 · 1 min read

दोहे

मात पिता का कीजिए,
सदैव आदर मान।
जिनसे हमको है मिला,
इस जीवन का दान।।

अहंकार से तुम सदा,
बचना मेरे यार।
रावण की गति क्या हुई,
जाने सब संसार।।

गुरु बिन ज्ञान कहीं नहीं,
जानत सब संसार।
वंदन को स्वीकारिए,
नमन है बार-बार।।

मुख पर मीठे बोल हों,
मन में मधुर विचार।
सम्मुख मीठे बैन के,
हारा यह संसार।।

मान सभी को दीजिए,
सब उसकी संतान।
पालक सबका एक ही,
निर्धन या धनवान।।

215 Views
You may also like:
*पुस्तक का नाम : अँजुरी भर गीत* (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
आदतें
AMRESH KUMAR VERMA
अभिलाषा
Anamika Singh
न झुकेगे हम
AMRESH KUMAR VERMA
आप ऐसा क्यों सोचते हो
gurudeenverma198
"दोस्त"
Lohit Tamta
बेटी को लेकर सोच बदल रहा है
Anamika Singh
इन्द्रवज्रा छंद (शिवेंद्रवज्रा स्तुति)
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
1-साहित्यकार पं बृजेश कुमार नायक का परिचय
Pt. Brajesh Kumar Nayak
अस्मतों के बाज़ार लग गए हैं।
Taj Mohammad
जिन्दगी खर्च हो रही है।
Taj Mohammad
राखी-बंँधवाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
जानें किसकी तलाश है।
Taj Mohammad
फुर्तीला घोड़ा
Buddha Prakash
मदहोश रहे सदा।
Taj Mohammad
"मेरे पिता"
vikkychandel90 विक्की चंदेल (साहिब)
"फौजी और उसका शहीद साथी"
Lohit Tamta
*मुरादाबाद स्मारिका* *:* *30 व 31 दिसंबर 1988 को उत्तर...
Ravi Prakash
एक ख़्वाब।
Taj Mohammad
सुंदर बाग़
DESH RAJ
बदल जायेगा
शेख़ जाफ़र खान
फ़रेब-ए-'इश्क़
Aditya Prakash
प़थम स्वतंत्रता संग्राम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
“ अरुणांचल प्रदेशक “ सेला टॉप” “
DrLakshman Jha Parimal
अदब से।
Taj Mohammad
पुन: विभूषित हो धरती माँ ।
Saraswati Bajpai
आदत
Anamika Singh
लता मंगेशकर
AMRESH KUMAR VERMA
जीवन जीने की कला, पहले मानव सीख
Dr Archana Gupta
मेरी खुशी तुमसे है
VINOD KUMAR CHAUHAN
Loading...