Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jun 2018 · 1 min read

अच्छी बातें

दोहे

औछी बातें छोड़ कर,जन का करो सुधार।
अगली सत्ता जीत हो,बना रहे इतबार।।

छलता मौका हाथ ले,जाता मानव भूल।
फूलों बदले फूल हैं,शूलों बदले शूल।।

कमियाँ खुद की भूल के,औरों में है चूर।
भैंस बिदकती ऊँट से,समझ खुदी को हूर।।

झूठा नाता ठीक ना,होता है यह हीन।
नाचे कब है भैंस रे,बजती जब भी बीन।।

मानव मानवता भूल के,लिए स्वार्थ की आड़।
काम खुदी के पूर्ण हों,सारे जाएँ भाड़।।

बेटी का घर राज हो,पर हो बहू गुलाम।
ऐसी माँ की सोच को,कैसे करें सलाम।।

बहना बेटी और माँ,सबका करना मान।
शांति रहे हर ओर तब,होगा तब उत्थान।।

साथ नहीं अन्याय का,होय किसी के संग।
ना जाने किस मोड़ पर,हम बन जाएँ अंग।।

प्रीतम पानी नेक धन,सदा रखो तुम साथ।
पानी चोरी लूट वो,कुछ ना बचता हाथ।।

प्रीतम हार न हार से,इसके आगे जीत।
कृष्ण-शुक्ल तुम पक्ष की,देखो अद्भुत रीत।।

प्रीतम छलना छोड़ दे,बुरी बहुत यह बात।
सूर्य-चन्द्र को ग्रहण हो,रूठे ना दिन-रात।।

प्रीतम देखो चाँदनी,कभी करे ना भेद।
समता राजा-रंक में,नहीं किसी से खेद।।

आर.एस. “प्रीतम”

Language: Hindi
295 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from आर.एस. 'प्रीतम'
View all
You may also like:
इंडिया ने परचम लहराया दुनियां में बेकार गया।
इंडिया ने परचम लहराया दुनियां में बेकार गया।
सत्य कुमार प्रेमी
जीवन
जीवन
Bodhisatva kastooriya
आर्या कंपटीशन कोचिंग क्लासेज केदलीपुर ईरनी रोड ठेकमा आजमगढ़।
आर्या कंपटीशन कोचिंग क्लासेज केदलीपुर ईरनी रोड ठेकमा आजमगढ़।
Rj Anand Prajapati
हमने किस्मत से आंखें लड़ाई मगर
हमने किस्मत से आंखें लड़ाई मगर
VINOD CHAUHAN
बदल चुका क्या समय का लय?
बदल चुका क्या समय का लय?
Buddha Prakash
" तारीफ़ "
Dr. Kishan tandon kranti
*ले औषधि संजीवनी, आए रातों-रात (कुछ दोहे)*
*ले औषधि संजीवनी, आए रातों-रात (कुछ दोहे)*
Ravi Prakash
अधरों ने की दिल्लगी,
अधरों ने की दिल्लगी,
sushil sarna
पुष्प की व्यथा
पुष्प की व्यथा
Shyam Sundar Subramanian
रात के सितारे
रात के सितारे
Neeraj Agarwal
स्वयं अपने चित्रकार बनो
स्वयं अपने चित्रकार बनो
Ritu Asooja
प्यार की भाषा
प्यार की भाषा
Surinder blackpen
मैं अपना गाँव छोड़कर शहर आया हूँ
मैं अपना गाँव छोड़कर शहर आया हूँ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
KRISHANPRIYA
KRISHANPRIYA
Gunjan Sharma
पल पल रंग बदलती है दुनिया
पल पल रंग बदलती है दुनिया
Ranjeet kumar patre
जितना सच्चा प्रेम है,
जितना सच्चा प्रेम है,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अनेकता में एकता 🇮🇳🇮🇳
अनेकता में एकता 🇮🇳🇮🇳
Madhuri Markandy
सत्यता और शुचिता पूर्वक अपने कर्तव्यों तथा दायित्वों का निर्
सत्यता और शुचिता पूर्वक अपने कर्तव्यों तथा दायित्वों का निर्
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
चौमासा विरहा
चौमासा विरहा
लक्ष्मी सिंह
..
..
*प्रणय प्रभात*
भारत के सैनिक
भारत के सैनिक
नवीन जोशी 'नवल'
तुम रूबरू भी
तुम रूबरू भी
हिमांशु Kulshrestha
3006.*पूर्णिका*
3006.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
यदि आप नंगे है ,
यदि आप नंगे है ,
शेखर सिंह
राजा जनक के समाजवाद।
राजा जनक के समाजवाद।
Acharya Rama Nand Mandal
हुआ है अच्छा ही, उनके लिए तो
हुआ है अच्छा ही, उनके लिए तो
gurudeenverma198
मैं बड़ा ही खुशनसीब हूं,
मैं बड़ा ही खुशनसीब हूं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
कई आबादियों में से कोई आबाद होता है।
कई आबादियों में से कोई आबाद होता है।
Sanjay ' शून्य'
******आधे - अधूरे ख्वाब*****
******आधे - अधूरे ख्वाब*****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
तुम अपने माता से,
तुम अपने माता से,
Bindesh kumar jha
Loading...