Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jun 2016 · 1 min read

दोहे

सूरत से सीरत भली सब से मीठा बोल

कहमे से पहले मगर शब्दों मे रस घोल

रिश्ते नातों को छोड कर चलता बना विदेश

डालर देख ललक बढी फिर भूला अपना देश

खुशी गमी तकदीर की भोगे खुद किरदार

बुरे वक्त मे हों नही साथी रिश्तेदार

हैं संयोग वियोग सब किस्मत के ही हाथ

जितना उसने लिख दिया उतना मिलता साथ

कोयल विरहन गा रही दर्द भरे से गीत

खुशी मनाऊँ आज क्या दूर गये मन मीत

बिन आत्म सम्मान के जीना गया फिज़ूल

उस जीवन को क्या कहें जिसमे नहीं उसूल

Language: Hindi
Tag: दोहा
327 Views
You may also like:
हमारे पापा
पाण्डेय चिदानन्द
नहीं चाहता
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
बाल मन
लक्ष्मी सिंह
बरसात
मनोज कर्ण
सिर्फ एक रंगे मुहब्बत के सिवा
shabina. Naaz
छल प्रपंच का जाल
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
सावन ही जाने
शेख़ जाफ़र खान
लानत है
Shekhar Chandra Mitra
साधु न भूखा जाय
श्री रमण 'श्रीपद्'
शुरू खत्म
Pradyumna
दूसरी सुर्पनखा: राक्षसी अधोमुखी
AJAY AMITABH SUMAN
शिक्षक को शिक्षण करने दो
Sanjay Narayan
"সালগিরহ"
DrLakshman Jha Parimal
रानी गाइदिन्ल्यू भारत की नागा आध्यात्मिक एवं राजनीतिक नेत्री
Author Dr. Neeru Mohan
बाज़ी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तेरे होने में क्या??
Manoj Kumar
"REAL LOVE"
Dushyant Kumar
✍️लक्ष्य ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
आओगे मेरे द्वार कभी
Kavita Chouhan
विरहनी के मुख से कुछ मुक्तक
Ram Krishan Rastogi
तेरा अनुमान लगाना
Dr fauzia Naseem shad
जो बीत गई।
Taj Mohammad
✍️आदमी ने बनाये है फ़ासले…
'अशांत' शेखर
गजलकार रघुनंदन किशोर "शौक" साहब का स्मरण
Ravi Prakash
*बुंदेली दोहा बिषय- डेकची*
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
अंकित है जो सत्य शिला पर
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
आव्हान - तरुणावस्था में लिखी एक कविता
HindiPoems ByVivek
बेटी का पत्र माँ के नाम (भाग २)
Anamika Singh
अमृत महोत्सव
विजय कुमार अग्रवाल
Loading...