Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Nov 2016 · 1 min read

माधव इस संसार में

माधव इस संसार में
तरह तरह के लोग ,
कुछ माया में हैं रमे
कुछ का जीवन योग ।

जो सत्कर्म में निरत हुए
उनका जीवन योग ,
जो माया में खोए हुए
उनका जीवन भोग ।

माया में न रम बंदे
हाथ कुछ न आएगा ,
कर्म पथ पर चलने से
नाम अमर पाएगा ।

कर्मपथ ही एक सुपथ है
इतना बस जान लो ,
नैया पार हो जाएगी
कहना यह मान लो ।

श्याम बेड़ा पार करो
बात यही मान ली ,
चलना है बस सुपथ पर
मन में है ठान ली ।

डॉ रीता
आया नगर , नई दिल्ली- 47

Language: Hindi
428 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Rita Singh
View all
You may also like:
होश खो देते जो जवानी में
होश खो देते जो जवानी में
Dr Archana Gupta
पुष्पदल
पुष्पदल
sushil sarna
देख लेते
देख लेते
Dr fauzia Naseem shad
दीपावली
दीपावली
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
यहाँ प्रयाग न गंगासागर,
यहाँ प्रयाग न गंगासागर,
Anil chobisa
कुछ लिखा हू तुम्हारी यादो में
कुछ लिखा हू तुम्हारी यादो में
देवराज यादव
बहुतेरा है
बहुतेरा है
Dr. Meenakshi Sharma
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
// कामयाबी के चार सूत्र //
// कामयाबी के चार सूत्र //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मौत आने के बाद नहीं खुलती वह आंख जो जिंदा में रोती है
मौत आने के बाद नहीं खुलती वह आंख जो जिंदा में रोती है
Anand.sharma
फर्श पर हम चलते हैं
फर्श पर हम चलते हैं
Neeraj Agarwal
2543.पूर्णिका
2543.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
तुम क्या चाहते हो
तुम क्या चाहते हो
gurudeenverma198
" बेदर्द ज़माना "
Chunnu Lal Gupta
बुंदेली दोहा- गरे गौ (भाग-1)
बुंदेली दोहा- गरे गौ (भाग-1)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
फितरत
फितरत
Dr.Priya Soni Khare
कभी तो ख्वाब में आ जाओ सूकून बन के....
कभी तो ख्वाब में आ जाओ सूकून बन के....
shabina. Naaz
"डूबना"
Dr. Kishan tandon kranti
गुरु दक्षिणा
गुरु दक्षिणा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
तुम्हारी निगाहें
तुम्हारी निगाहें
Er. Sanjay Shrivastava
कोरोना तेरा शुक्रिया
कोरोना तेरा शुक्रिया
Sandeep Pande
चिड़िया बैठी सोच में, तिनका-तिनका जोड़।
चिड़िया बैठी सोच में, तिनका-तिनका जोड़।
डॉ.सीमा अग्रवाल
you don’t need a certain number of friends, you just need a
you don’t need a certain number of friends, you just need a
पूर्वार्थ
पिता की पराजय
पिता की पराजय
Suryakant Dwivedi
जिससे एक मर्तबा प्रेम हो जाए
जिससे एक मर्तबा प्रेम हो जाए
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*परम संतुष्ट मन जिसका, असल में संत होता है (मुक्तक)*
*परम संतुष्ट मन जिसका, असल में संत होता है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
😢स्मृति शेष / संस्मरण
😢स्मृति शेष / संस्मरण
*Author प्रणय प्रभात*
सब सूना सा हो जाता है
सब सूना सा हो जाता है
Satish Srijan
उपकार माईया का
उपकार माईया का
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...