Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Apr 2023 · 1 min read

दोहे-

दोहे-
कौन दुखी खुश कौन है,समझ न आए भेद।
जाती सरपट भागती,सड़क बहाती स्वेद।।1

दुःख गरीबी बेबसी ,लेकर चलते साथ।
भीड़ भाड़ में खो गए,शहरों के फुटपाथ।।2

रोम-रोम में पीर है ,देह धूप से स्याह।
पर रुकने देती नहीं,अपनों की परवाह।।3

होगा कहाँ गरीब का,बोलो तो उपचार।
उसके हिस्से के हुए,अस्पताल बीमार।।4
✒ डाॅ बिपिन पाण्डेय

1 Like · 998 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गणेश वंदना
गणेश वंदना
Bodhisatva kastooriya
आज का मुक्तक
आज का मुक्तक
*प्रणय प्रभात*
"विचित्रे खलु संसारे नास्ति किञ्चिन्निरर्थकम् ।
Mukul Koushik
प्रेम
प्रेम
Rashmi Sanjay
इस ठग को क्या नाम दें
इस ठग को क्या नाम दें
gurudeenverma198
बेख़बर
बेख़बर
Shyam Sundar Subramanian
Meditation
Meditation
Ravikesh Jha
निरुपाय हूँ /MUSAFIR BAITHA
निरुपाय हूँ /MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
सच्चे- झूठे सब यहाँ,
सच्चे- झूठे सब यहाँ,
sushil sarna
मन मूरख बहुत सतावै
मन मूरख बहुत सतावै
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
भ्रष्टाचार ने बदल डाला
भ्रष्टाचार ने बदल डाला
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
अभिनेता बनना है
अभिनेता बनना है
Jitendra kumar
स्वयं आएगा
स्वयं आएगा
चक्षिमा भारद्वाज"खुशी"
तुम्हारे इश्क में इतने दीवाने लगते हैं।
तुम्हारे इश्क में इतने दीवाने लगते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
चिंतन
चिंतन
ओंकार मिश्र
क्षितिज
क्षितिज
Dhriti Mishra
भाषा और बोली में वहीं अंतर है जितना कि समन्दर और तालाब में ह
भाषा और बोली में वहीं अंतर है जितना कि समन्दर और तालाब में ह
Rj Anand Prajapati
फकत है तमन्ना इतनी।
फकत है तमन्ना इतनी।
Taj Mohammad
*आओ गाओ गीत बंधु, मधु फागुन आया है (गीत)*
*आओ गाओ गीत बंधु, मधु फागुन आया है (गीत)*
Ravi Prakash
दुर्लभ हुईं सात्विक विचारों की श्रृंखला
दुर्लभ हुईं सात्विक विचारों की श्रृंखला
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
चवपैया छंद , 30 मात्रा (मापनी मुक्त मात्रिक )
चवपैया छंद , 30 मात्रा (मापनी मुक्त मात्रिक )
Subhash Singhai
लंगोटिया यारी
लंगोटिया यारी
Sandeep Pande
2507.पूर्णिका
2507.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"सोचो जरा"
Dr. Kishan tandon kranti
ये रंगा रंग ये कोतुहल                           विक्रम कु० स
ये रंगा रंग ये कोतुहल विक्रम कु० स
Vikram soni
*दायरे*
*दायरे*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मेरे जाने के बाद ,....
मेरे जाने के बाद ,....
ओनिका सेतिया 'अनु '
खुद के हाथ में पत्थर,दिल शीशे की दीवार है।
खुद के हाथ में पत्थर,दिल शीशे की दीवार है।
Priya princess panwar
वो भी तन्हा रहता है
वो भी तन्हा रहता है
'अशांत' शेखर
माँ के बिना घर आंगन अच्छा नही लगता
माँ के बिना घर आंगन अच्छा नही लगता
Basant Bhagawan Roy
Loading...