Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Mar 2023 · 1 min read

दोहे

दोहे

प्रातः उठकर टहलिए और करो व्यायाम।
इसमें थोड़ा जोड़िए, योगा प्राणायाम।

कभी किसी पर मत हॅंसो, हंसिए सबके साथ।
जज़्बा रखिए जीत का, मत दो शह औ’र मात।

झूठ बहुत मीठा लगे, फिर भी कहां पसंद।
सच है कड़वा बहुत पर, देता है आनंद।

जीवन में ऐसा करो, सबके साथ प्रयास।
खुशियों में हो या न हो, गम में रहिए साथ।

सबकुछ संभव प्रेम से, बन जाते सब काम।
वशीभूत हो प्रेम के, सखा बने धनश्याम।

बेशक हम सब हैं खुशी, मानव जीवन पाय।
अब कुछ ऐसे कर्म हों, जन्म सफल हुइ जाय।

यही कामना सब करें, जब तक जीवन प्राण।
सभी सुखी हों और हो, सबका ही कल्याण।

जीवन की दुश्वारियों, का हो जाए अंत।
जीवन में आते रहें, खुशियों भरे बसंत।

हॅंसी-खुशी कायम रहे, रहे न कोई जंग।
जीवन में प्रभु जी भरें,खुशियों के सब रंग।

काम- क्रोध, मद- लोभ में, डूब रहा संसार।
शुद्ध सरल जीवन सदा, खुशियों का भंडार।

पर हित सर्वोपरि रखो, बिना लालशा कर्म।
रामचरित मानस कहे, गीता का यह मर्म।

सादर वंदन और नमन, हे प्रभु दीनानाथ।
सुख दुख के इस चक्र में, हरदम रहना साथ।

हर दिन फूलों सा खिले, रहे सुहानी शाम।
सुंदर स्वप्निल रात हो, मन हो चारो धाम।

…….✍️ सत्य कुमार प्रेमी

Language: Hindi
293 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
फितरत सियासत की
फितरत सियासत की
लक्ष्मी सिंह
शिक्षक
शिक्षक
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
"स्वप्न".........
Kailash singh
Three handfuls of rice
Three handfuls of rice
कार्तिक नितिन शर्मा
"यायावरी" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
दौर ऐसा हैं
दौर ऐसा हैं
SHAMA PARVEEN
*मूॅंगफली स्वादिष्ट, सर्वजन की यह मेवा (कुंडलिया)*
*मूॅंगफली स्वादिष्ट, सर्वजन की यह मेवा (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
“ भाषा की मृदुलता ”
“ भाषा की मृदुलता ”
DrLakshman Jha Parimal
रमेशराज के देशभक्ति के बालगीत
रमेशराज के देशभक्ति के बालगीत
कवि रमेशराज
जरुरत क्या है देखकर मुस्कुराने की।
जरुरत क्या है देखकर मुस्कुराने की।
Ashwini sharma
समस्याओं के स्थान पर समाधान पर अधिक चिंतन होना चाहिए,क्योंकि
समस्याओं के स्थान पर समाधान पर अधिक चिंतन होना चाहिए,क्योंकि
Deepesh purohit
छिपकली
छिपकली
Dr Archana Gupta
अतीत
अतीत
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
किसी भी बात पर अब वो गिला करने नहीं आती
किसी भी बात पर अब वो गिला करने नहीं आती
Johnny Ahmed 'क़ैस'
जिंदगी के कुछ चैप्टर ऐसे होते हैं,
जिंदगी के कुछ चैप्टर ऐसे होते हैं,
Vishal babu (vishu)
साल भर पहले
साल भर पहले
ruby kumari
3123.*पूर्णिका*
3123.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
प्रेम
प्रेम
Neeraj Agarwal
सूरज को
सूरज को
surenderpal vaidya
पूर्ण-अपूर्ण
पूर्ण-अपूर्ण
Srishty Bansal
हाँ, मैं तुमसे ----------- मगर ---------
हाँ, मैं तुमसे ----------- मगर ---------
gurudeenverma198
दुखांत जीवन की कहानी में सुखांत तलाशना बेमानी है
दुखांत जीवन की कहानी में सुखांत तलाशना बेमानी है
Guru Mishra
To my dear Window!!
To my dear Window!!
Rachana
शादी कुँवारे से हो या शादीशुदा से,
शादी कुँवारे से हो या शादीशुदा से,
Dr. Man Mohan Krishna
गले लगा लेना
गले लगा लेना
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
चंदा मामा सुनो मेरी बात 🙏
चंदा मामा सुनो मेरी बात 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
"बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ"
Dr. Kishan tandon kranti
Let your thoughts
Let your thoughts
Dhriti Mishra
प्रेम भरी नफरत
प्रेम भरी नफरत
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
यादों के बादल
यादों के बादल
singh kunwar sarvendra vikram
Loading...