Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Feb 2023 · 1 min read

#दोहे

क्षुधा लिए मंज़िल मिले, समझो मत अभिशाप।
कमल खिले ज्यों पंक में, खिलो जीत यूँ आप।।

तड़प लगी प्रभु प्रेम में, भुला रही संसार।
दीवाना ऐसा हुआ, बदला मन व्यवहार।।

संयम मन पर जो करे, पाकर सच्चा ज्ञान।
हर चाहत वह जीत ले, होकर रहे सुजान।।

भ्रम मिटता सद्ज्ञान से, जानो लेकर ज्ञान।
भ्रमित मनुज भटके सदा, बना फिरे अनजान।।

अनगढ़ को जो गढ़ सके, कलाकार वह एक।
जिसकी छाया के तले, फूलें फलें अनेक।‌।

गदगद मन करते सदा, सत्य वचन अनमोल।
सोच समझकर बोलिये, हृदय स्वयं का खोल।।

प्यार तुम्हारा तो लगे, मानो हो मकरंद।
नश-नश में ज़ादू भरे, बन कविता का छंद।।

अर्थी अंतर से जगे, जीते सभी जहान।
हार-हार कर हार हो, बिखरे जब मुस्क़ान।।

भेज बुलावा प्रेम से, मिलें लिए अनुराग।
प्रेम शक्ति के दीप से, विष तम जाए भाग।।

सबसे हटकर सोचिये, लक्ष्य लिए परवाज़।
ध्यान सभी का खींचता, एक ज़ुदा अंदाज़।।

#आर. एस. ‘प्रीतम’
#सर्वाधिकार सुरक्षित दोहे

Language: Hindi
1 Like · 270 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from आर.एस. 'प्रीतम'
View all
You may also like:
यायावर
यायावर
Satish Srijan
■ दोमुंहा-सांप।।
■ दोमुंहा-सांप।।
*प्रणय प्रभात*
शेखर सिंह
शेखर सिंह
शेखर सिंह
ख्वाहिशों के बोझ मे, उम्मीदें भी हर-सम्त हलाल है;
ख्वाहिशों के बोझ मे, उम्मीदें भी हर-सम्त हलाल है;
manjula chauhan
याद आती हैं मां
याद आती हैं मां
Neeraj Agarwal
जिंदगी मौत से बत्तर भी गुज़री मैंने ।
जिंदगी मौत से बत्तर भी गुज़री मैंने ।
Phool gufran
जा रहा हु...
जा रहा हु...
Ranjeet kumar patre
यूनिवर्सल सिविल कोड
यूनिवर्सल सिविल कोड
Dr. Harvinder Singh Bakshi
अज्ञात है हम भी अज्ञात हो तुम भी...!
अज्ञात है हम भी अज्ञात हो तुम भी...!
Aarti sirsat
धरती का बस एक कोना दे दो
धरती का बस एक कोना दे दो
Rani Singh
गिराता और को हँसकर गिरेगा वो यहाँ रोकर
गिराता और को हँसकर गिरेगा वो यहाँ रोकर
आर.एस. 'प्रीतम'
"फितरत"
Dr. Kishan tandon kranti
दोस्ती....
दोस्ती....
Harminder Kaur
मजदूर है हम
मजदूर है हम
Dinesh Kumar Gangwar
गांव
गांव
Bodhisatva kastooriya
3057.*पूर्णिका*
3057.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*माता हीराबेन (कुंडलिया)*
*माता हीराबेन (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
वो आपको हमेशा अंधेरे में रखता है।
वो आपको हमेशा अंधेरे में रखता है।
Rj Anand Prajapati
मेरी बच्ची - दीपक नीलपदम्
मेरी बच्ची - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
"नंगे पाँव"
Pushpraj Anant
"सोज़-ए-क़ल्ब"- ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
ए मेरे चांद ! घर जल्दी से आ जाना
ए मेरे चांद ! घर जल्दी से आ जाना
Ram Krishan Rastogi
बच्चे का संदेश
बच्चे का संदेश
Anjali Choubey
मित्रता मे १० % प्रतिशत लेल नीलकंठ बनब आवश्यक ...सामंजस्यक
मित्रता मे १० % प्रतिशत लेल नीलकंठ बनब आवश्यक ...सामंजस्यक
DrLakshman Jha Parimal
कर सकता नहीं ईश्वर भी, माँ की ममता से समता।
कर सकता नहीं ईश्वर भी, माँ की ममता से समता।
डॉ.सीमा अग्रवाल
* इंसान था रास्तों का मंजिल ने मुसाफिर ही बना डाला...!
* इंसान था रास्तों का मंजिल ने मुसाफिर ही बना डाला...!
Vicky Purohit
रोशनी से तेरी वहां चांद  रूठा बैठा है
रोशनी से तेरी वहां चांद रूठा बैठा है
Virendra kumar
পৃথিবী
পৃথিবী
Otteri Selvakumar
Bundeli Doha pratiyogita-149th -kujane
Bundeli Doha pratiyogita-149th -kujane
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
चप्पलें
चप्पलें
Kanchan Khanna
Loading...