Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jul 2016 · 1 min read

दोहे

कविता किरकी कांच जस, हर किरके को मोह
छपने की लोकेषणा, करे छंद से द्रोह

आत्म मुग्ध लेखन हुआ, पकड़ विदेशी छन्द
ताका, महिया, हाइकू, निरस विदेशी कंद

तंत्र बड़ा, गण भी बड़ा, पर सूरत बदरंग
नेता सीरत को गंवा, घूमें नंग धडंग

पुलिस, कोर्ट, लोकल निगम, कर्म क्षेत्र बदनाम
बिना गांठ ढीली किये, बने वहां नहि काम

चढ़ें चुनावी नाव पर, कातिल, चोर, दबंग
अधिकांश ये ही बनें, लोक सभा के अंग

तिनका जिसके पग न कर, और हाड़ न मांस
डूबे को बचायेगा? क्यों करते परिहास

स्वस्थ तन और शुद्ध मन, हंसा रूढ़ विवेक
तीनों गुण के धारती, हों लाखों में एक

Language: Hindi
Tag: दोहा
1 Like · 448 Views
You may also like:
जयकार हो जयकार हो सुखधाम राघव राम की।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
बेटियाँ
shabina. Naaz
तीन दोहे
Vijay kumar Pandey
ज़िन्दगी का रंग उतरे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तेरे होने में क्या??
Manoj Kumar
#नाव
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
लघुकथा- 'रेल का डिब्बा'
जगदीश शर्मा सहज
तरुवर (कुंडलिया)
Ravi Prakash
✍️माटी का है मनुष्य✍️
'अशांत' शेखर
दोहा
Dr. Sunita Singh
मुकम्मल हुआ हूं आज।
Taj Mohammad
शून्य से अनन्त
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
"अबकी जाड़ा कबले जाई "
Rajkumar Bhatt
#कविता//ऊँ नमः शिवाय!
आर.एस. 'प्रीतम'
बाल कहानी- प्रिया
SHAMA PARVEEN
नियति
Vikas Sharma'Shivaaya'
तोड़ डालो ये परम्परा
VINOD KUMAR CHAUHAN
सावन मास निराला
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
" छुपी प्रतिभा "
DrLakshman Jha Parimal
बेटियां
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
मेहनत का फल
Buddha Prakash
यें हक़ीक़त थी मेरे ख़्वाबों की
Dr fauzia Naseem shad
मेरा भारत मेरा तिरंगा
Ram Krishan Rastogi
शब्द को डायनामाइट बनाने वाला जीनियस: भगतसिंह
Shekhar Chandra Mitra
जीवनामृत
Shyam Sundar Subramanian
अपनी लकीर बड़ी करो
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
नई सुबह नव वर्ष की
जगदीश लववंशी
నా తెలుగు భాష..
विजय कुमार 'विजय'
नव बर्ष 2023 काआगाज
Dr. Girish Chandra Agarwal
कृष्ण वंदना
लक्ष्मी सिंह
Loading...