Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Oct 2022 · 1 min read

दोहे एकादश….

पर्वत-चोटी लाँघकर, सब वृक्षों को फाँद।
उतरा मेरे आँगना, पूरनमा का चाँद।।१

दुनिया कितनी स्वार्थी, देख रहे हो नाथ !
सिर्फ तुम्हारा साथ है, खींचा सबने हाथ।। २

अपने अपने ना रहे, घर में रहकर गैर।
रिश्ते नाजुक मर रहे, कौन मनाए खैर।। ३

पणगोला सा फूटता, देखो तो उस ओर।
अफरातफरी सी मची, त्राहि-त्राहि का शोर।। ४

उफन रहे नाले सभी, उगल रहे हैं क्षार।
गली-गली में देख लो, गड्ढों की भरमार।। ५

तन को सीधे बेधकर, करती दिल पर वार।
होती हर हथियार से, तेज कलम की धार।। ६

जितनी जिसकी वैधता, उतना उसका मान।
नियत तिथि के साथ ही, मिट जाती पहचान।। ७

आए- आकर रख गए, दुखती रग पर हाथ।
कहकर अपना आपने, भला निभाया साथ।। ८

वृद्धाश्रम सुत ले चला, समझ पिता को भार।
बूढ़ी आँखें ताकतीं, घर को बारंबार।। ९

माँ को बेघर कर गए, खूब मचाकर क्लेश।
घर पुश्तैनी बेचकर, सुत जा बसे विदेश।। १०

उनके घटिया बोल पर, क्यों होते गमगीन।
किस्मत में जो आपकी, सके न कोई छीन।। ११

© सीमा अग्रवाल
मुरादाबाद ( उ.प्र.)
“मनके मेरे मनके” से

Language: Hindi
2 Likes · 265 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ.सीमा अग्रवाल
View all
You may also like:
3126.*पूर्णिका*
3126.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हाथ पताका, अंबर छू लूँ।
हाथ पताका, अंबर छू लूँ।
संजय कुमार संजू
तूफ़ानों से लड़करके, दो पंक्षी जग में रहते हैं।
तूफ़ानों से लड़करके, दो पंक्षी जग में रहते हैं।
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
हृदय के राम
हृदय के राम
इंजी. संजय श्रीवास्तव
नववर्ष।
नववर्ष।
Manisha Manjari
संसार का स्वरूप(3)
संसार का स्वरूप(3)
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
गलत चुनाव से
गलत चुनाव से
Dr Manju Saini
मेरी हस्ती
मेरी हस्ती
Shyam Sundar Subramanian
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
विनम्रता
विनम्रता
Bodhisatva kastooriya
" मैं फिर उन गलियों से गुजरने चली हूँ "
Aarti sirsat
Dr Arun Kumar Shastri
Dr Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
धोखे का दर्द
धोखे का दर्द
Sanjay ' शून्य'
*चुनाव में महिला सीट का चक्कर (हास्य व्यंग्य)*
*चुनाव में महिला सीट का चक्कर (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
नये वर्ष का आगम-निर्गम
नये वर्ष का आगम-निर्गम
Ramswaroop Dinkar
नई पीढ़ी पूछेगी, पापा ये धोती क्या होती है…
नई पीढ़ी पूछेगी, पापा ये धोती क्या होती है…
Anand Kumar
* मिट जाएंगे फासले *
* मिट जाएंगे फासले *
surenderpal vaidya
घर छूटा तो बाकी के असबाब भी लेकर क्या करती
घर छूटा तो बाकी के असबाब भी लेकर क्या करती
Shweta Soni
सत्यता वह खुशबू का पौधा है
सत्यता वह खुशबू का पौधा है
प्रेमदास वसु सुरेखा
वतन के तराने
वतन के तराने
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
कदीमी याद
कदीमी याद
Sangeeta Beniwal
मेरी प्यारी अभिसारी हिंदी......!
मेरी प्यारी अभिसारी हिंदी......!
Neelam Sharma
आजाद लब
आजाद लब
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
💐प्रेम कौतुक-534💐
💐प्रेम कौतुक-534💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"तेरी यादों ने दिया
*Author प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
बिल्ले राम
बिल्ले राम
Kanchan Khanna
शरणागति
शरणागति
Dr. Upasana Pandey
कोई मरहम
कोई मरहम
Dr fauzia Naseem shad
Loading...