Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Dec 2022 · 1 min read

दोहा

परनिंदा तो खूब हो ,अपना हो गुणगान ।
तन-मन में मिसरी घुले ,चाह रहे हैं कान ।।1

साधू संन्यासी कई ,साध रहे हैं योग ।
रहे बचे कुछ संत जो ,करते वैभव भोग ।।2

चाटुकार जग में बना ,सब दिन ही सिरमौर ।
जिह्वा मधुरस घोलती ,कथनी- करनी और ।।3

मोबाइल सुविधा बनी ,नित्य सूचना हेतु ।
अपराधों के जाल को,यह सुविधा का सेतु ।।4

नहीं नाचते दिख रहे ,अब जंगल में मोर ।
घर-बस्ती तक आ गए ,खूनी आदमखोर ।।5

कौड़ी-कौड़ी जोड़ के ,जुटा लिया सामान ।
रिक्त रहा उर प्रेम से ,बनता मन धनवान ।।6

दिन पर दिन बढ़ने लगे ,दुनिया में जंजाल ।
घिरे अर्थ के जाल में ,धनपति या कंगाल ।।7

डा. सुनीता सिंह ‘सुधा’
9/5/2022

Language: Hindi
1 Like · 150 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नारी हूँ मैं
नारी हूँ मैं
Kavi praveen charan
कितना कोलाहल
कितना कोलाहल
Bodhisatva kastooriya
पत्रकारों को पत्रकार के ही भाषा में जवाब दिया जा सकता है । प
पत्रकारों को पत्रकार के ही भाषा में जवाब दिया जा सकता है । प
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
// जनक छन्द //
// जनक छन्द //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
एक प्रयास अपने लिए भी
एक प्रयास अपने लिए भी
Dr fauzia Naseem shad
हर हाल में बढ़ना पथिक का कर्म है।
हर हाल में बढ़ना पथिक का कर्म है।
Anil Mishra Prahari
तरस रहा हर काश्तकार
तरस रहा हर काश्तकार
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
अदम गोंडवी
अदम गोंडवी
Shekhar Chandra Mitra
करके कोई साजिश गिराने के लिए आया
करके कोई साजिश गिराने के लिए आया
कवि दीपक बवेजा
कौन किसके बिन अधूरा है
कौन किसके बिन अधूरा है
Ram Krishan Rastogi
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
2818. *पूर्णिका*
2818. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मेरी तो धड़कनें भी
मेरी तो धड़कनें भी
हिमांशु Kulshrestha
#लघुकथा-
#लघुकथा-
*Author प्रणय प्रभात*
कविता-
कविता- "हम न तो कभी हमसफ़र थे"
Dr Tabassum Jahan
जय महादेव
जय महादेव
Shaily
*कष्ट दो प्रभु इस तरह से,पाप सारे दूर हों【हिंदी गजल/गीतिका】*
*कष्ट दो प्रभु इस तरह से,पाप सारे दूर हों【हिंदी गजल/गीतिका】*
Ravi Prakash
करने लगा मैं ऐसी बचत
करने लगा मैं ऐसी बचत
gurudeenverma198
तंग गलियों में मेरे सामने, तू आये ना कभी।
तंग गलियों में मेरे सामने, तू आये ना कभी।
Manisha Manjari
बोझ हसरतों का - मुक्तक
बोझ हसरतों का - मुक्तक
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
त्योहार
त्योहार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अभिनेता बनना है
अभिनेता बनना है
Jitendra kumar
क्या बचा  है अब बदहवास जिंदगी के लिए
क्या बचा है अब बदहवास जिंदगी के लिए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ग़म का सागर
ग़म का सागर
Surinder blackpen
*बहुत कठिन डगर जीवन की*
*बहुत कठिन डगर जीवन की*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
****🙏🏻आह्वान🙏🏻****
****🙏🏻आह्वान🙏🏻****
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
"जानिब"
Dr. Kishan tandon kranti
"कुण्डलिया"
surenderpal vaidya
राष्ट्र निर्माता शिक्षक
राष्ट्र निर्माता शिक्षक
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Dard-e-Madhushala
Dard-e-Madhushala
Tushar Jagawat
Loading...