Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jan 2024 · 1 min read

दोहा

मृगनयनी चंचल चले, हिरनी जैसी चाल ।
अपना यौवन षोडशी ,चलती बड़ा संभाल ।।

मद में गौरी जब चले, हिरनी जैसी चाल ।
आशिक, भौंरे, मनचले, डालें अपना जाल ।।

सुशील सरना / 13-1-24

77 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*मारीच (कुंडलिया)*
*मारीच (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जिज्ञासा
जिज्ञासा
Neeraj Agarwal
*बाल गीत (पागल हाथी )*
*बाल गीत (पागल हाथी )*
Rituraj shivem verma
वह बरगद की छाया न जाने कहाॅ॑ खो गई
वह बरगद की छाया न जाने कहाॅ॑ खो गई
VINOD CHAUHAN
शायर तो नहीं
शायर तो नहीं
Bodhisatva kastooriya
ऋतु परिवर्तन
ऋतु परिवर्तन
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
"अतितॄष्णा न कर्तव्या तॄष्णां नैव परित्यजेत्।
Mukul Koushik
💐प्रेम कौतुक-237💐
💐प्रेम कौतुक-237💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
kavita
kavita
Rambali Mishra
दूरियां ये जन्मों की, क्षण में पलकें मिटातीं है।
दूरियां ये जन्मों की, क्षण में पलकें मिटातीं है।
Manisha Manjari
ऐ सुनो
ऐ सुनो
Anand Kumar
क्या अब भी तुम न बोलोगी
क्या अब भी तुम न बोलोगी
Rekha Drolia
दूसरों को देते हैं ज्ञान
दूसरों को देते हैं ज्ञान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कुछ नमी अपने
कुछ नमी अपने
Dr fauzia Naseem shad
आवारा परिंदा
आवारा परिंदा
साहित्य गौरव
बिजलियों का दौर
बिजलियों का दौर
अरशद रसूल बदायूंनी
** बहुत दूर **
** बहुत दूर **
surenderpal vaidya
!! चहक़ सको तो !!
!! चहक़ सको तो !!
Chunnu Lal Gupta
बहुत से लोग तो तस्वीरों में ही उलझ जाते हैं ,उन्हें कहाँ होश
बहुत से लोग तो तस्वीरों में ही उलझ जाते हैं ,उन्हें कहाँ होश
DrLakshman Jha Parimal
3213.*पूर्णिका*
3213.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मानसिकता का प्रभाव
मानसिकता का प्रभाव
Anil chobisa
मेरे होंठों पर
मेरे होंठों पर
Surinder blackpen
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
"नजरों से न गिरना"
Dr. Kishan tandon kranti
शस्त्र संधान
शस्त्र संधान
Ravi Shukla
परिवार
परिवार
Sandeep Pande
कहो तो..........
कहो तो..........
Ghanshyam Poddar
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
चंद्रयान-२ और ३ मिशन
चंद्रयान-२ और ३ मिशन
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
आजावो माँ घर,लौटकर तुम
आजावो माँ घर,लौटकर तुम
gurudeenverma198
Loading...