Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jul 2023 · 1 min read

#दोहा-

#दोहा-
■ पात्रता व आवश्यकता से अधिक मान-सम्मान देने का परिणाम “उपेक्षा।”

1 Like · 75 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बम बम भोले
बम बम भोले
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
"" *आओ बनें प्रज्ञावान* ""
सुनीलानंद महंत
चाय-दोस्ती - कविता
चाय-दोस्ती - कविता
Kanchan Khanna
परम प्रकाश उत्सव कार्तिक मास
परम प्रकाश उत्सव कार्तिक मास
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
I am Me - Redefined
I am Me - Redefined
Dhriti Mishra
दुख है दर्द भी है मगर मरहम नहीं है
दुख है दर्द भी है मगर मरहम नहीं है
कवि दीपक बवेजा
धीरे-धीरे रूप की,
धीरे-धीरे रूप की,
sushil sarna
नव वर्ष की बधाई -2024
नव वर्ष की बधाई -2024
Raju Gajbhiye
पिता का पता
पिता का पता
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
टेढ़ी ऊंगली
टेढ़ी ऊंगली
Dr. Pradeep Kumar Sharma
We can rock together!!
We can rock together!!
Rachana
मैं जानता हूॅ॑ उनको और उनके इरादों को
मैं जानता हूॅ॑ उनको और उनके इरादों को
VINOD CHAUHAN
नव भारत निर्माण करो
नव भारत निर्माण करो
Anamika Tiwari 'annpurna '
🌻 गुरु चरणों की धूल🌻
🌻 गुरु चरणों की धूल🌻
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
चुगलखोरी एक मानसिक संक्रामक रोग है।
चुगलखोरी एक मानसिक संक्रामक रोग है।
विमला महरिया मौज
रंगों का त्योहार है होली।
रंगों का त्योहार है होली।
Satish Srijan
न किजिए कोशिश हममें, झांकने की बार-बार।
न किजिए कोशिश हममें, झांकने की बार-बार।
ओसमणी साहू 'ओश'
भ्रष्टाचार
भ्रष्टाचार
Paras Nath Jha
छन्द- वाचिक प्रमाणिका (मापनीयुक्त मात्रिक) वर्णिक मापनी – 12 12 12 12 अथवा – लगा लगा लगा लगा, पारंपरिक सूत्र – जभान राजभा लगा (अर्थात ज र ल गा)
छन्द- वाचिक प्रमाणिका (मापनीयुक्त मात्रिक) वर्णिक मापनी – 12 12 12 12 अथवा – लगा लगा लगा लगा, पारंपरिक सूत्र – जभान राजभा लगा (अर्थात ज र ल गा)
Neelam Sharma
एक किस्सा तो आम अब भी है,
एक किस्सा तो आम अब भी है,
*प्रणय प्रभात*
भीड़ में हाथ छोड़ दिया....
भीड़ में हाथ छोड़ दिया....
Kavita Chouhan
If I were the ocean,
If I were the ocean,
पूर्वार्थ
दो पाटन की चक्की
दो पाटन की चक्की
Harminder Kaur
दारू की महिमा अवधी गीत
दारू की महिमा अवधी गीत
प्रीतम श्रावस्तवी
बारम्बार प्रणाम
बारम्बार प्रणाम
Pratibha Pandey
क्षमा अपनापन करुणा।।
क्षमा अपनापन करुणा।।
Kaushal Kishor Bhatt
*रामपुर में सर्वप्रथम गणतंत्र दिवस समारोह के प्रत्यक्षदर्शी श्री रामनाथ टंडन*
*रामपुर में सर्वप्रथम गणतंत्र दिवस समारोह के प्रत्यक्षदर्शी श्री रामनाथ टंडन*
Ravi Prakash
3541.💐 *पूर्णिका* 💐
3541.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
"खासियत"
Dr. Kishan tandon kranti
कसौटी
कसौटी
Astuti Kumari
Loading...