Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Mar 2023 · 1 min read

दोहा

दोहा
लेकर चलती ज़िंदगी,भले खास अंदाज़।
जिम्मेदारी उम्र का ,करती नहीं लिहाज़।।
– डाॅ.बिपिन पाण्डेय

1 Like · 2 Comments · 272 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चुल्लू भर पानी में
चुल्लू भर पानी में
Satish Srijan
तुम्हीं मेरा रस्ता
तुम्हीं मेरा रस्ता
Monika Arora
ग़ज़ल- हूॅं अगर मैं रूह तो पैकर तुम्हीं हो...
ग़ज़ल- हूॅं अगर मैं रूह तो पैकर तुम्हीं हो...
अरविन्द राजपूत 'कल्प'
बज्जिका के पहिला कवि ताले राम
बज्जिका के पहिला कवि ताले राम
Udaya Narayan Singh
बाट का बटोही ?
बाट का बटोही ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हंसी मुस्कान
हंसी मुस्कान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*दिल में  बसाई तस्वीर है*
*दिल में बसाई तस्वीर है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
जब मैंने एक तिरंगा खरीदा
जब मैंने एक तिरंगा खरीदा
SURYA PRAKASH SHARMA
हमसफ़र
हमसफ़र
अखिलेश 'अखिल'
सुहागरात की परीक्षा
सुहागरात की परीक्षा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
फितरत
फितरत
Dr.Priya Soni Khare
"मेहमान"
Dr. Kishan tandon kranti
2867.*पूर्णिका*
2867.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आप और हम जीवन के सच
आप और हम जीवन के सच
Neeraj Agarwal
*चाँद को भी क़बूल है*
*चाँद को भी क़बूल है*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मौसम मौसम बदल गया
मौसम मौसम बदल गया
The_dk_poetry
तितली रानी (बाल कविता)
तितली रानी (बाल कविता)
नाथ सोनांचली
हंसकर मुझे तू कर विदा
हंसकर मुझे तू कर विदा
gurudeenverma198
......तु कोन है मेरे लिए....
......तु कोन है मेरे लिए....
Naushaba Suriya
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
तू बस झूम…
तू बस झूम…
Rekha Drolia
हमारे पास हार मानने के सभी कारण थे, लेकिन फिर भी हमने एक-दूस
हमारे पास हार मानने के सभी कारण थे, लेकिन फिर भी हमने एक-दूस
पूर्वार्थ
गर्द चेहरे से अपने हटा लीजिए
गर्द चेहरे से अपने हटा लीजिए
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
कुछ नमी अपने
कुछ नमी अपने
Dr fauzia Naseem shad
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
ऐसा नही था कि हम प्यारे नही थे
ऐसा नही था कि हम प्यारे नही थे
Dr Manju Saini
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
■ कितना वदल गया परिवेश।।😢😢
■ कितना वदल गया परिवेश।।😢😢
*प्रणय प्रभात*
पेशवा बाजीराव बल्लाल भट्ट
पेशवा बाजीराव बल्लाल भट्ट
Ajay Shekhavat
हर जमीं का आसमां होता है।
हर जमीं का आसमां होता है।
Taj Mohammad
Loading...