Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Jun 2023 · 1 min read

दोहा- बाबूजी (पिताजी)

25-बिषय:- बाबू जी (पिताजी)

1
बाबूजी घर की सदा , #राना है बुनियाद |
पहले उनका मान है , फिर कोई है बाद ||

2
बाबू जी #राना सदा , रखें खोलकर नैन |
खबर सदा अच्छी रहे , मिलता उनको चैन |

3
बाबू जी की जब छड़ी , हल्के से दे चोट |
समझो कोई काम में , आई #राना खोट ||

4
बाबू जी की बात है , #राना बजनीदार |
अनुभव के हैं देवता , सबको है उपहार ||

5
बाबू जी के सामने , हम बबुआ कहलाँय‌ |
#राना घर आनंद है , सबको यही सुनाँय ||
***

© राजीव नामदेव “राना लिधौरी” टीकमगढ़
संपादक “आकांक्षा” पत्रिका
संपादक- ‘अनुश्रुति’ त्रैमासिक बुंदेली ई पत्रिका
जिलाध्यक्ष म.प्र. लेखक संघ टीकमगढ़
अध्यक्ष वनमाली सृजन केन्द्र टीकमगढ़
नई चर्च के पीछे, शिवनगर कालोनी,
टीकमगढ़ (मप्र)-472001
मोबाइल- 9893520965
Email – ranalidhori@gmail.com

1 Like · 349 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
View all
You may also like:
अधूरा प्रयास
अधूरा प्रयास
Sûrëkhâ
उठो पथिक थक कर हार ना मानो
उठो पथिक थक कर हार ना मानो
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
चिड़िया बैठी सोच में, तिनका-तिनका जोड़।
चिड़िया बैठी सोच में, तिनका-तिनका जोड़।
डॉ.सीमा अग्रवाल
प्रेम
प्रेम
Prakash Chandra
ग़म
ग़म
Harminder Kaur
"जाल"
Dr. Kishan tandon kranti
"झूठ और सच" हिन्दी ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
मैं चाहता हूं इस बड़ी सी जिन्दगानी में,
मैं चाहता हूं इस बड़ी सी जिन्दगानी में,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
बड़ा गुरुर था रावण को भी अपने भ्रातृ रूपी अस्त्र पर
बड़ा गुरुर था रावण को भी अपने भ्रातृ रूपी अस्त्र पर
सुनील कुमार
*फितरत*
*फितरत*
Dushyant Kumar
हर खुशी
हर खुशी
Dr fauzia Naseem shad
मार्मिक फोटो
मार्मिक फोटो
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
*┄┅════❁ 卐ॐ卐 ❁════┅┄​*
*┄┅════❁ 卐ॐ卐 ❁════┅┄​*
Satyaveer vaishnav
Orange 🍊 cat
Orange 🍊 cat
Otteri Selvakumar
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मैं भारत हूँ
मैं भारत हूँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
* शक्ति स्वरूपा *
* शक्ति स्वरूपा *
surenderpal vaidya
"अकेलापन"
Pushpraj Anant
नारी
नारी
Bodhisatva kastooriya
आओ न! बचपन की छुट्टी मनाएं
आओ न! बचपन की छुट्टी मनाएं
डॉ० रोहित कौशिक
2555.पूर्णिका
2555.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
नारी पुरुष
नारी पुरुष
Neeraj Agarwal
चकोर हूं मैं कभी चांद से मिला भी नहीं
चकोर हूं मैं कभी चांद से मिला भी नहीं
सत्य कुमार प्रेमी
तबकी  बात  और है,
तबकी बात और है,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
शायद मेरी क़िस्मत में ही लिक्खा था ठोकर खाना
शायद मेरी क़िस्मत में ही लिक्खा था ठोकर खाना
Shweta Soni
आदमखोर बना जहाँ,
आदमखोर बना जहाँ,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
भाईचारे का प्रतीक पर्व: लोहड़ी
भाईचारे का प्रतीक पर्व: लोहड़ी
कवि रमेशराज
*दादू के पत्र*
*दादू के पत्र*
Ravi Prakash
दमके क्षितिज पार,बन धूप पैबंद।
दमके क्षितिज पार,बन धूप पैबंद।
Neelam Sharma
पश्चाताप का खजाना
पश्चाताप का खजाना
अशोक कुमार ढोरिया
Loading...