Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Oct 2023 · 1 min read

दोहा- दिशा

हिंदी दोहा दिवस
विषय – दिशा

दिशा हीन #राना मनुज , जग‌ में रहे उदास ||
बौराया -सा घूमता , रहे न कुछ भी पास ||

निर्धारित है यदि दिशा , होता ‌ अनुसंधान |
#राना यह भी मानता , चूकै‌ नहीं निशान ||

नियत हमारी दे दिशा , चलें कदम किस ओर |
#राना करनी ही सदा , करें निशा शुभ भोर ||

रावण ने अपनी दिशा , पहले रखी ‌ घमंड |
दूजी में #राना दिखा , फैलाया पाखंड‌ ||

मन की होती जो दशा , दिशा बने प्रतिमान |
#राना कहता सोचकर , और कहें गुणवान ||
***दिनांक-31-10-2023
✍️ -राजीव नामदेव “राना लिधौरी”,टीकमगढ़
संपादक “आकांक्षा” पत्रिका
संपादक- ‘अनुश्रुति’ त्रैमासिक बुंदेली ई पत्रिका
जिलाध्यक्ष म.प्र. लेखक संघ टीकमगढ़
अध्यक्ष वनमाली सृजन केन्द्र टीकमगढ़
नई चर्च के पीछे, शिवनगर कालोनी,
टीकमगढ़ (मप्र)-472001
मोबाइल- 9893520965
Email – ranalidhori@gmail.com

153 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
View all
You may also like:
आपसे होगा नहीं , मुझसे छोड़ा नहीं जाएगा
आपसे होगा नहीं , मुझसे छोड़ा नहीं जाएगा
Keshav kishor Kumar
*माता (कुंडलिया)*
*माता (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मुझे याद🤦 आती है
मुझे याद🤦 आती है
डॉ० रोहित कौशिक
देश का वामपंथ
देश का वामपंथ
विजय कुमार अग्रवाल
Mere papa
Mere papa
Aisha Mohan
2310.पूर्णिका
2310.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
उठाना होगा यमुना के उद्धार का बीड़ा
उठाना होगा यमुना के उद्धार का बीड़ा
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मूल्य वृद्धि
मूल्य वृद्धि
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कहां खो गए
कहां खो गए
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
तड़प कर मर रही हूं तुझे ही पाने के लिए
तड़प कर मर रही हूं तुझे ही पाने के लिए
Ram Krishan Rastogi
तेरी याद आती है
तेरी याद आती है
Akash Yadav
अपनों को थोड़ासा समझो तो है ये जिंदगी..
अपनों को थोड़ासा समझो तो है ये जिंदगी..
'अशांत' शेखर
एक अलग ही खुशी थी
एक अलग ही खुशी थी
Ankita Patel
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Mukesh Kumar Sonkar
" तुम से नज़र मिलीं "
Aarti sirsat
वह फूल हूँ
वह फूल हूँ
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सूखा पत्ता
सूखा पत्ता
Dr Nisha nandini Bhartiya
हिमनद
हिमनद
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
'चो' शब्द भी गजब का है, जिसके साथ जुड़ जाता,
'चो' शब्द भी गजब का है, जिसके साथ जुड़ जाता,
SPK Sachin Lodhi
*माटी कहे कुम्हार से*
*माटी कहे कुम्हार से*
Harminder Kaur
थोड़ा Success हो जाने दो यारों...!!
थोड़ा Success हो जाने दो यारों...!!
Ravi Betulwala
मुझे फ़र्क नहीं दिखता, ख़ुदा और मोहब्बत में ।
मुझे फ़र्क नहीं दिखता, ख़ुदा और मोहब्बत में ।
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
साथ मेरे था
साथ मेरे था
Dr fauzia Naseem shad
क्या अजब दौर है आजकल चल रहा
क्या अजब दौर है आजकल चल रहा
Johnny Ahmed 'क़ैस'
हिंदी सबसे प्यारा है
हिंदी सबसे प्यारा है
शेख रहमत अली "बस्तवी"
क्या बचा  है अब बदहवास जिंदगी के लिए
क्या बचा है अब बदहवास जिंदगी के लिए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
होली की आयी बहार।
होली की आयी बहार।
Anil Mishra Prahari
*अपवित्रता का दाग (मुक्तक)*
*अपवित्रता का दाग (मुक्तक)*
Rambali Mishra
निराला का मुक्त छंद
निराला का मुक्त छंद
Shweta Soni
"अगर"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...