Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jan 2024 · 1 min read

दोहा त्रयी. . . .

दोहा त्रयी. . .

कितना किसको क्या कहें, लगते सभी सुजान ।
ज्ञान बाँटना आजकल, जैसे हो अपमान ।।

अर्थ आवरण में छुपी, अपनों की पहचान ।
सुख -दुख सब एकल हुए, रिश्ते सब बेजान ।।

अभिव्यक्त कैसे करें, अन्तस के उद्गार ।
मौन व्योम के मध्य है, मुक्त प्रीत शृंगार ।।

सुशील सरना / 12-1-24

1 Like · 114 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*कभी बरसात है (घनाक्षरी)*
*कभी बरसात है (घनाक्षरी)*
Ravi Prakash
दवाखाना  से अब कुछ भी नहीं होता मालिक....
दवाखाना से अब कुछ भी नहीं होता मालिक....
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मौन सभी
मौन सभी
sushil sarna
पापा जी
पापा जी
नाथ सोनांचली
"घर की नीम बहुत याद आती है"
Ekta chitrangini
खूबसूरत लम्हें जियो तो सही
खूबसूरत लम्हें जियो तो सही
Harminder Kaur
आधुनिक परिवेश में वर्तमान सामाजिक जीवन
आधुनिक परिवेश में वर्तमान सामाजिक जीवन
Shyam Sundar Subramanian
* संसार में *
* संसार में *
surenderpal vaidya
अजीब शख्स था...
अजीब शख्स था...
हिमांशु Kulshrestha
आँख
आँख
विजय कुमार अग्रवाल
आदिपुरुष समीक्षा
आदिपुरुष समीक्षा
Dr.Archannaa Mishraa
आजमाइश
आजमाइश
Suraj Mehra
तुम्हीं  से  मेरी   जिंदगानी  रहेगी।
तुम्हीं से मेरी जिंदगानी रहेगी।
Rituraj shivem verma
इन आँखों में इतनी सी नमी रह गई।
इन आँखों में इतनी सी नमी रह गई।
लक्ष्मी सिंह
मन जो कि सूक्ष्म है। वह आसक्ति, द्वेष, इच्छा एवं काम-क्रोध ज
मन जो कि सूक्ष्म है। वह आसक्ति, द्वेष, इच्छा एवं काम-क्रोध ज
पूर्वार्थ
लहसुन
लहसुन
आकाश महेशपुरी
मुनाफे में भी घाटा क्यों करें हम।
मुनाफे में भी घाटा क्यों करें हम।
सत्य कुमार प्रेमी
संवेदनशील होना किसी भी व्यक्ति के जीवन का महान गुण है।
संवेदनशील होना किसी भी व्यक्ति के जीवन का महान गुण है।
Mohan Pandey
राजस्थानी भाषा में
राजस्थानी भाषा में
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
"सुखी हुई पत्ती"
Pushpraj Anant
सीख गांव की
सीख गांव की
Mangilal 713
छह घण्टे भी पढ़ नहीं,
छह घण्टे भी पढ़ नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
3371⚘ *पूर्णिका* ⚘
3371⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
मैं सरिता अभिलाषी
मैं सरिता अभिलाषी
Pratibha Pandey
আজকের মানুষ
আজকের মানুষ
Ahtesham Ahmad
ग़ज़ल- तू फितरत ए शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है- डॉ तबस्सुम जहां
ग़ज़ल- तू फितरत ए शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है- डॉ तबस्सुम जहां
Dr Tabassum Jahan
#उल्टा_पुल्टा
#उल्टा_पुल्टा
*Author प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelam Sharma
लौ
लौ
Dr. Seema Varma
वो शख्स अब मेरा नहीं रहा,
वो शख्स अब मेरा नहीं रहा,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
Loading...