Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 May 2024 · 2 min read

*दोस्त*

डॉ अरुण कुमार शास्त्री ( पूर्व निदेशक – आयुष ) दिल्ली

बड़े नसीब से मिला करते हैं दोस्त दुनियाँ में ।
हरएक की कहाँ किस्मत में दोस्त दुनियाँ में ।

फकीरों सा अंदाज हुआ करता है यारों का मिरे यारा ।
हरएक के मिकदार पर कहाँ खरे उतरते दोस्त दुनियाँ में ।

मर्द हों याके हों औरत क्या फ़र्क पड़ता है दोस्त दुनियाँ में ।
दूर हों याके करीब हों कहलाते तो दोस्त दुनियाँ में ।

मैं तरसता ही रहा कोई हमदर्द मिल जाये सीने से लगाने को ।
शर्त इतनी सी है महज़ के हो खालिस दोस्त दुनियाँ में ।

खड़ा हो जो दीवार बन के मेरे और दुनिया की बीच ।
कोई इल्जाम जो आये अस्मत पे तो ढाल बन जाये ।

उठा कर चलूँ सरे आम सर अपना ऊंचा रखूँ ।
ऐसा यार हो मिरा फकत मेरी शान बन जाये ।

बड़े नसीब से मिला करते हैं दोस्त दुनियाँ में ।
हरएक की कहाँ किस्मत में दोस्त दुनियाँ में ।

गरीब हो अमीर हो इंसानियत से पीर हो फकीर हो ।
कदर जानता हो इखलाक की मस्त वो बो नजीर हो ।

तड़पन हो दिल में जिस्म में हो बिजलियाँ जनाब ।
दोस्त हो तो ऐसा जिसे मिलने को तड़प हो बे – हिसाब ।

ठंडक सी बसी हो , जिसकी तासीर में भई वाह क्या कहने ।
दोस्त के नाते वो शगूफ़ा हो नायाब , वाह वाह क्या कहने ।

बड़े नसीब से मिला करते हैं दोस्त दुनियाँ में ।
हरएक की कहाँ किस्मत में दोस्त दुनियाँ में ।

फकीरों सा अंदाज हुआ करता है यारों का मिरे यारा ।
हरएक के मिकदार पर कहाँ खरे उतरते दोस्त दुनियाँ में ।

1 Like · 41 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
ये बात पूछनी है - हरवंश हृदय....🖋️
ये बात पूछनी है - हरवंश हृदय....🖋️
हरवंश हृदय
‘निराला’ का व्यवस्था से विद्रोह
‘निराला’ का व्यवस्था से विद्रोह
कवि रमेशराज
आप और हम जीवन के सच .......…एक प्रयास
आप और हम जीवन के सच .......…एक प्रयास
Neeraj Agarwal
चंचल - मन पाता कहाँ , परमब्रह्म का बोध (कुंडलिया)
चंचल - मन पाता कहाँ , परमब्रह्म का बोध (कुंडलिया)
Ravi Prakash
23/73.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/73.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कविता
कविता
Bodhisatva kastooriya
यात्रा ब्लॉग
यात्रा ब्लॉग
Mukesh Kumar Rishi Verma
सोच
सोच
Dinesh Kumar Gangwar
मन चंगा तो कठौती में गंगा / MUSAFIR BAITHA
मन चंगा तो कठौती में गंगा / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
ज़िंदगी में गीत खुशियों के ही गाना दोस्तो
ज़िंदगी में गीत खुशियों के ही गाना दोस्तो
Dr. Alpana Suhasini
ज्ञान के दाता तुम्हीं , तुमसे बुद्धि - विवेक ।
ज्ञान के दाता तुम्हीं , तुमसे बुद्धि - विवेक ।
Neelam Sharma
जब हर एक दिन को शुभ समझोगे
जब हर एक दिन को शुभ समझोगे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मुझ को किसी एक विषय में मत बांधिए
मुझ को किसी एक विषय में मत बांधिए
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
उनकी उल्फत देख ली।
उनकी उल्फत देख ली।
सत्य कुमार प्रेमी
एहसास
एहसास
भरत कुमार सोलंकी
इसरो के हर दक्ष का,
इसरो के हर दक्ष का,
Rashmi Sanjay
आज की सौगात जो बख्शी प्रभु ने है तुझे
आज की सौगात जो बख्शी प्रभु ने है तुझे
Saraswati Bajpai
कभी धूप तो कभी खुशियों की छांव होगी,
कभी धूप तो कभी खुशियों की छांव होगी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
जन्म गाथा
जन्म गाथा
विजय कुमार अग्रवाल
जिस मीडिया को जनता के लिए मोमबत्ती बनना चाहिए था, आज वह सत्त
जिस मीडिया को जनता के लिए मोमबत्ती बनना चाहिए था, आज वह सत्त
शेखर सिंह
■ जाने कहाँ गए वो दिन!!
■ जाने कहाँ गए वो दिन!!
*प्रणय प्रभात*
दो ही हमसफर मिले जिन्दगी में..
दो ही हमसफर मिले जिन्दगी में..
Vishal babu (vishu)
"यदि"
Dr. Kishan tandon kranti
3. कुपमंडक
3. कुपमंडक
Rajeev Dutta
अभिनय से लूटी वाहवाही
अभिनय से लूटी वाहवाही
Nasib Sabharwal
मेरी कविताएं पढ़ लेना
मेरी कविताएं पढ़ लेना
Satish Srijan
दिल तसल्ली को
दिल तसल्ली को
Dr fauzia Naseem shad
महाराणा सांगा
महाराणा सांगा
Ajay Shekhavat
''आशा' के मुक्तक
''आशा' के मुक्तक"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
*** आकांक्षा : एक पल्लवित मन...! ***
*** आकांक्षा : एक पल्लवित मन...! ***
VEDANTA PATEL
Loading...