Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Aug 2023 · 1 min read

दोस्त………….एक विश्वास

रंगमंच के किरदार में भी दोस्त होता हैं।
आधुनिक सोच का भी मान होता हैं।

सच तो बस एक हमारी दोस्ती है।
क्यूं एक दोस्त ही साथ देता हैं।

अरे सब ठीक होगा,मैं हूं न
दोस्त ही साथ और हौसला होता हैं

जिंदगी, में सच एक ही दोस्त होता हैंं।
बाकी तो शब्द और अर्थ कहते हैं।

दोस्ती में भेदभाव छल न होता हैं।
हकीकत और किरदार बोलता है।

दोस्ती कहने या बताने से न होती हैंं।
दोस्त की दोस्ती बस निभाने से होती हैं।

आओ हम भी दोस्त बन सकते हैं।
न फरेब न छल बस विश्वास कर सकते हैं।

नीरज अग्रवाल चंदौसी उ.प्र

Language: Hindi
335 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आप सभी को नववर्ष की हार्दिक अनंत शुभकामनाएँ
आप सभी को नववर्ष की हार्दिक अनंत शुभकामनाएँ
डॉ.सीमा अग्रवाल
ऐसे भी मंत्री
ऐसे भी मंत्री
Dr. Pradeep Kumar Sharma
राधा
राधा
Mamta Rani
तेरे इश्क़ में
तेरे इश्क़ में
Gouri tiwari
हमने माना अभी
हमने माना अभी
Dr fauzia Naseem shad
इस छोर से.....
इस छोर से.....
Shiva Awasthi
शब्द उनके बहुत नुकीले हैं
शब्द उनके बहुत नुकीले हैं
Dr Archana Gupta
भूखे हैं कुछ लोग !
भूखे हैं कुछ लोग !
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
"किसी दिन"
Dr. Kishan tandon kranti
■ आई बात समझ में...?
■ आई बात समझ में...?
*Author प्रणय प्रभात*
नववर्ष तुम्हे मंगलमय हो
नववर्ष तुम्हे मंगलमय हो
Ram Krishan Rastogi
The Earth Moves
The Earth Moves
Buddha Prakash
तू सरिता मै सागर हूँ
तू सरिता मै सागर हूँ
Satya Prakash Sharma
जब पीड़ा से मन फटता है
जब पीड़ा से मन फटता है
पूर्वार्थ
मेरी बात अलग
मेरी बात अलग
Surinder blackpen
कैसा दौर आ गया है ज़ालिम इस सरकार में।
कैसा दौर आ गया है ज़ालिम इस सरकार में।
Dr. ADITYA BHARTI
*स्वतंत्रता सेनानी स्वर्गीय श्री राम कुमार बजाज*
*स्वतंत्रता सेनानी स्वर्गीय श्री राम कुमार बजाज*
Ravi Prakash
पधारो मेरे प्रदेश तुम, मेरे राजस्थान में
पधारो मेरे प्रदेश तुम, मेरे राजस्थान में
gurudeenverma198
हम चाहते हैं कि सबसे संवाद हो ,सबको करीब से हम जान सकें !
हम चाहते हैं कि सबसे संवाद हो ,सबको करीब से हम जान सकें !
DrLakshman Jha Parimal
- अपनो का स्वार्थीपन -
- अपनो का स्वार्थीपन -
bharat gehlot
3202.*पूर्णिका*
3202.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
💐प्रेम कौतुक-336💐
💐प्रेम कौतुक-336💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कुछ बातें पुरानी
कुछ बातें पुरानी
PRATIK JANGID
तन माटी का
तन माटी का
Neeraj Agarwal
बचपन के वो दिन कितने सुहाने लगते है
बचपन के वो दिन कितने सुहाने लगते है
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
तुम अगर कांटे बोओऐ
तुम अगर कांटे बोओऐ
shabina. Naaz
जय माता दी
जय माता दी
Raju Gajbhiye
अंदाज़े शायरी
अंदाज़े शायरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
আজ চারপাশ টা কেমন নিরব হয়ে আছে
আজ চারপাশ টা কেমন নিরব হয়ে আছে
Sukoon
कविता
कविता
Bodhisatva kastooriya
Loading...