Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jun 2016 · 1 min read

दोस्ती

आओ
जिंदगी से दोस्ती कर लें फिर से
जी भर कर बतियायें
रूठने पर मना लें इसको
हौले से प्यार से
दबा दें इसकी हथेली
इसके कांधे पर
सिर रख कर शिकायत कर लें
आओ, फिर से
जिंदगी से दोस्ती कर लें
तोड़ दें वर्जनाएँ
मन का कहना मान लें
जो भी अच्छा लगे
उसे जी भर कर जी लें
आओ, जिंदगी से दोस्ती कर लें।

Language: Hindi
2 Likes · 545 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ज़िंदगी की कसम
ज़िंदगी की कसम
Dr fauzia Naseem shad
"दो पहलू"
Yogendra Chaturwedi
■ विडंबना-
■ विडंबना-
*Author प्रणय प्रभात*
विजेता
विजेता
Sanjay ' शून्य'
प्रेम एक्सप्रेस
प्रेम एक्सप्रेस
Rahul Singh
तुमको सोचकर जवाब दूंगा
तुमको सोचकर जवाब दूंगा
gurudeenverma198
बात पते की कहती नानी।
बात पते की कहती नानी।
Vedha Singh
भाव
भाव
ईश्वर चन्द्र
*यह तो बात सही है सबको, जग से जाना होता है (हिंदी गजल)*
*यह तो बात सही है सबको, जग से जाना होता है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
दोहे
दोहे
अशोक कुमार ढोरिया
उड़ चल रे परिंदे....
उड़ चल रे परिंदे....
जगदीश लववंशी
सबसे करीब दिल के हमारा कोई तो हो।
सबसे करीब दिल के हमारा कोई तो हो।
सत्य कुमार प्रेमी
2791. *पूर्णिका*
2791. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जन्नत
जन्नत
जय लगन कुमार हैप्पी
Ajj bade din bad apse bat hui
Ajj bade din bad apse bat hui
Sakshi Tripathi
एक सत्य
एक सत्य
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
फिरकापरस्ती
फिरकापरस्ती
Shekhar Chandra Mitra
सत्य संकल्प
सत्य संकल्प
Shaily
प्यार और नफ़रत
प्यार और नफ़रत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
शांति दूत वह बुद्ध प्रतीक ।
शांति दूत वह बुद्ध प्रतीक ।
Buddha Prakash
मैल
मैल
Gaurav Sharma
✴️⛅बादल में भी देखा तुम्हें आज⛅✴️
✴️⛅बादल में भी देखा तुम्हें आज⛅✴️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
★बादल★
★बादल★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
करवाचौथ
करवाचौथ
Dr Archana Gupta
जीवन में
जीवन में
ओंकार मिश्र
आखिर में मर जायेंगे सब लोग अपनी अपनी मौत,
आखिर में मर जायेंगे सब लोग अपनी अपनी मौत,
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
महान कथाकार प्रेमचन्द की प्रगतिशीलता खण्डित थी, ’बड़े घर की
महान कथाकार प्रेमचन्द की प्रगतिशीलता खण्डित थी, ’बड़े घर की
Dr MusafiR BaithA
“STAY WITHIN THE SCOPE OF FRIENDSHIP, DO NOT ENCROACH”
“STAY WITHIN THE SCOPE OF FRIENDSHIP, DO NOT ENCROACH”
DrLakshman Jha Parimal
इन्तेहा हो गयी
इन्तेहा हो गयी
shabina. Naaz
Loading...