Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 May 2023 · 1 min read

दोस्ती का तराना

चेहरे की रंगत इनसे ही आया करती थी ,
आंखे ख्वाबों की दुनिया इनसे पाया करती थी।
बँधी हुई जिन्दगी में आजादी इनसे आया करती थी,
जीवन की थकान इनसे मिलकर भाग जाया करती थी।।

मिलने पे हमेशा मुस्कराहट लौट आया करती थी,
बातों के सिलसिलों से महफिल सजा करती थी ।
जीवन के माहौल में खुशबू सी छाया करती थी,
मौसम में मस्तानगी इनसे ही आया करती थी।।

गैरों से अपनेपन की भावना इसने जागृत होती थी,
इनसे ही खूबसूरती, जीवन में खूब सजा करती थी।
बचपन की ताजगी इनके साथ ही छाया करती थी,
रोते हुए चेहरे में हंसी इनके साथ ही आया करती थी।।

अच्छे या हों बुरे,अपने हालात बताया करते थे,
कुछ बात बताया करते थे कुछ बात सुनाया करते थे।
बिना कस्मों के रस्में निःस्वार्थ निभाया करते थे,
भरोसे की ताकत हमेशा यही बढ़ाया करते थे।।

©अभिषेक पाण्डेय अभि

33 Likes · 262 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सत्य की खोज, कविता
सत्य की खोज, कविता
Mohan Pandey
बिहनन्हा के हल्का सा घाम कुछ याद दीलाथे ,
बिहनन्हा के हल्का सा घाम कुछ याद दीलाथे ,
Krishna Kumar ANANT
3317.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3317.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
मुक्तक... हंसगति छन्द
मुक्तक... हंसगति छन्द
डॉ.सीमा अग्रवाल
ମଣିଷ ଠାରୁ ଅଧିକ
ମଣିଷ ଠାରୁ ଅଧିକ
Otteri Selvakumar
उन्नति का जन्मदिन
उन्नति का जन्मदिन
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
विश्व सिंधु की अविरल लहरों पर
विश्व सिंधु की अविरल लहरों पर
Neelam Sharma
*खरगोश (बाल कविता)*
*खरगोश (बाल कविता)*
Ravi Prakash
पैसा अगर पास हो तो
पैसा अगर पास हो तो
शेखर सिंह
ख्वाब दिखाती हसरतें ,
ख्वाब दिखाती हसरतें ,
sushil sarna
काव्य की आत्मा और अलंकार +रमेशराज
काव्य की आत्मा और अलंकार +रमेशराज
कवि रमेशराज
शिक्षक दिवस
शिक्षक दिवस
Ram Krishan Rastogi
दोहा- मीन-मेख
दोहा- मीन-मेख
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
काल का स्वरूप🙏
काल का स्वरूप🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
"जरा देख"
Dr. Kishan tandon kranti
Winner
Winner
Paras Nath Jha
इस प्रथ्वी पर जितना अधिकार मनुष्य का है
इस प्रथ्वी पर जितना अधिकार मनुष्य का है
Sonam Puneet Dubey
चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी कई मायनों में खास होती है।
चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी कई मायनों में खास होती है।
Shashi kala vyas
मेरे दिल की हर इक वो खुशी बन गई
मेरे दिल की हर इक वो खुशी बन गई
कृष्णकांत गुर्जर
देशभक्ति पर दोहे
देशभक्ति पर दोहे
Dr Archana Gupta
Mental Health
Mental Health
Bidyadhar Mantry
#तेवरी
#तेवरी
*प्रणय प्रभात*
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चेहरा और वक्त
चेहरा और वक्त
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
लिखना है मुझे वह सब कुछ
लिखना है मुझे वह सब कुछ
पूनम कुमारी (आगाज ए दिल)
महफ़िल मे किसी ने नाम लिया वर्ल्ड कप का,
महफ़िल मे किसी ने नाम लिया वर्ल्ड कप का,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
ज्ञान से शिक्षित, व्यवहार से अनपढ़
ज्ञान से शिक्षित, व्यवहार से अनपढ़
पूर्वार्थ
ख़ामोशी
ख़ामोशी
कवि अनिल कुमार पँचोली
समय के साथ ही हम है
समय के साथ ही हम है
Neeraj Agarwal
बसंत आने पर क्या
बसंत आने पर क्या
Surinder blackpen
Loading...